Breaking News
Home / बड़ी खबर / देश / Weather Alert : उत्तराखंड समेत कई राज्यों में बारिश कहर जारी, 4 दिन में हुई इतनी मौतें

Weather Alert : उत्तराखंड समेत कई राज्यों में बारिश कहर जारी, 4 दिन में हुई इतनी मौतें

दिल्ली में उफान पर यमुना, केजरीवाल ने केंद्रीय गृहमंत्री को लिखा पत्र

नई दिल्ली। उत्तराखंड, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा में लगातार बारिश हो रही है। खराब मौसम के चलते बीते 4 दिनों में देश के अलग-अलग राज्यों में 100 से ज्यादा लोग की जान चली गई। आठ जुलाई से अब तक हिमाचल प्रदेश में 36, उत्तर प्रदेश में 34, जम्मू-कश्मीर में 15, उत्तराखंड में 9, दिल्ली में 5 और राजस्थान, महाराष्ट्र और हरियाणा में एक-एक की मौत हुई है। दिल्ली में यमुना नदी का जलस्तर शाम 6 बजे तक 207.81 मीटर पहुंच गया। दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने यमुना किनारे निचले इलाकों में रह रहे लोगों से कहा है कि वे इंतजार नहीं करें, फौरन इन इलाकों को खाली कर दें।

हिमाचल प्रदेश में मूसलाधार बारिश का दौर भले ही थम गया हो लेकिन दुश्वारियां कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। भूस्खलन और मकान ढहने की कई घटनाओं में जान-माल का काफी नुकसान हुआ है। प्रदेश में बुधवार शाम तक 1,189 सड़कें, 3,200 जलापूर्ति योजनाएं और 1,128 यातायात रूट प्रभावित रहे। 10 हजार टूरिस्ट जगह-जगह फंसे हैं। चंद्रताल में 3 फीट बर्फ जम गई है। 6 हेलिकॉप्टर रेस्क्यू में लगाए गए हैं। कुल्लू में ब्यास नदी के बहाव में आधा सैंज बाजार ही बह गया। उत्तराखंड में लैंडस्लाइड की वजह से गंगोत्री और यमुनोत्री नेशनल हाईवे कई जगहों पर बंद हैं। यहां 3 से 5 हजार लोग फंसे हुए हैं। हिमाचल में प्रदेश फिर भारी बारिश का अलर्ट जारी हुआ है। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला की ओर से प्रदेश के कई भागों में 15 व 16 जुलाई को भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी किया है। राज्य के कई भागों में 18 जुलाई तक बारिश का सिलसिला जारी रह सकता है। वहीं, राजधानी शिमला में आज हल्की धूप खिलने के साथ बादल छाए हुए हैं।
हरियाणा के मुख्यमंत्री ने बुधवार को राज्य में हुई भारी बारिश से प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लेने के लिए लगभग 4-5 जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया। इसके बाद उन्होंने अंबाला में जिला प्रशासन के अधिकारियों के साथ बैठक की और जिले में बाढ़ राहत कार्यों की समीक्षा की। वहीं, एयर फोर्स स्टेशन का जायजा लिया। इसके साथ ही अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए।

उत्तराखंड में मानसून ने धमाकेदार एंट्री की है। एक जुलाई से अब तक प्रदेश में सामान्य से सात प्रतिशत अधिक बारिश हो चुकी है। इसका सीधा असर सड़कों पर भी पड़ा है। भारी बारिश के चलते पर्वतीय क्षेत्रों में भूस्खलन और दूसरे अन्य कारणों से अब तक 1500 से अधिक सड़कें बंद हो चुकी हैं, जबकि पिछले वर्ष जुलाई के अंत तक यह आंकड़ा मात्र 1400 पहुंचा था।

दिल्ली में बाढ़ कभी भी ले सकती है रौद्र रूप

जी-20 शिखर सम्मलेन होना है, बाढ़ आई तो दुनिया में नहीं जाएगा अच्छा संदेश

नई दिल्ली। दिल्ली में यमुना के बढ़ते जल स्तर को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गंभीर चिंता जताते हुए बुधवार को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को चिट्ठी लिखी है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली में पिछले तीन दिनों से बारिश नहीं हो रही है। इसके बाद भी यमुना का जल स्तर बढ़ता जा रहा है, क्योंकि हरियाणा के हथिनीकुंड बैराज से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है। 1978 के बाद पहली बार यमुना का जल स्तर 207.55 मीटर हुआ है और आज रात यह 207.72 मीटर तक पहुंचने की संभावना है। सीएम ने केंद्रीय गृहमंत्री से अनुरोध करते हुए कहा है कि अगले कुछ हफ्तों में दिल्ली में जी-20 शिखर सम्मेलन होने वाला है। ऐसे में अगर दिल्ली में बाढ़ आई तो दुनिया में अच्छा संदेश नहीं जाएगा। इसलिए हथिनीकुंड से सीमित गति में पानी छोड़ा जाए, ताकि यमुना का जलस्तर और न बढ़े।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखकर हथिनी कुंड बैराज से नियंत्रित स्तर पर पानी छोड़ने की अपील करते हुए दिल्ली में पैदा हो रहे बाढ़ के हालत पर केंद्र सरकार से हस्तक्षेप की मांग की है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने अपने पत्र में कहा है कि आज दोपहर 1 बजे दिल्ली में यमुना का स्तर 207.55 मीटर पहुंच गया है। यह खतरे के निशान (205.33 मीटर) से बहुत ऊपर है। इसके पहले यमुना का अभी तक अधिकतम जल स्तर 1978 में पहुंचा था, तब यमुना का जल स्तर 207.49 मीटर था। उस वक्त दिल्ली में बाढ़ आ गई थी और काफी गंभीर स्थिति हो गई थी। 207.55 मीटर के स्तर पर अब यमुना में कभी भी बाढ़ आ सकती है। सीएम अरविंद केजरीवाल ने पत्र में लिखा कि दिल्ली में पिछले तीन दिन से बारिश नहीं हुई। दिल्ली में यमुना में पानी का स्तर दिल्ली की बारिश की वजह से नहीं बढ़ रहा, बल्कि हरियाणा स्थित हथिनीकुंड बैराज से छोड़े जाने वाले पानी की वजह से लगातार बढ़ रहा है।

 

 

Check Also

कानपुर : फेरों से पहले दूल्हे के गहने लेकर दुल्हन हुई रफूचक्कर, जब बराती ने रास्ता रोका तो

 बराती ने रास्ता रोका तो भाइयों ने उठाकर पटका कानपुर। ग्यारह हसबैंडों का बैंड बजाने ...