UP Election 2022 : वाराणसी में 70 प्रत्याशियों का भाग्य ईवीएम में बंद, 58.80 फीसद मतदान

वाराणसी । प्रदेश विधानसभा चुनाव के सातवें और अंतिम चरण में सोमवार को शाम सायंकाल बजे तक जिले के आठ विधानसभा में 58.80 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इसी के साथ आठ विधानसभा के 70 प्रत्याशियों का भाग्य मतपेटिका में बंद हो गया। पूरे जिले में सुबह से शाम तक कड़ी सुरक्षा के बीच शान्तिपूर्ण माहौल में मतदान सम्पन्न हो गया।

संवेदनशील बूथों पर अधिकारियों के साथ फोर्स के वाहन दिन भर दौड़ते रहे। मतदान में महिलाओं की खासी भागीदारी रही। सुबह सात बजे से लेकर शाम छह बजे तक मतदान के दौरान हर दो घंटे में जो मतदान का आंकड़ा सामने आया । उसमें शाम 06 बजे मतदान समाप्त होने तक पिण्डरा विधानसभा में 57.84 फीसद, अजगरा में 61.82 फीसद, शिवपुर में 63.48 फीसद, रोहनिया में 60.34 फीसद, वाराणसी उत्तरी में 56.82 फीसद, वाराणसी दक्षिणी में 59.13 फीसद, वाराणसी कैण्ट में 51.35 फीसद, सेवापुरी में 61.72 फीसद मतदान हुआ। शुरूआती दो घंटे मतदान की गति काफी धीमी रही। लेकिन दिन चढ़ने के साथ मतदाता घरों से बाहर निकले तो मतदान ने गति पकड़ ली। जिसका नतीजा रहा कि शाम पांच बजे तक मतदान प्रतिशत 52.79 फीसद तक पहुंच गया। जिले के शिवपुर में सबसे अधिक 55.7 फीसदी मतदान हुआ तो सबसे कम कैंट में 48.5 फीसदी मतदाताओं ने अपना वोट डाला। अन्य विधानसभा क्षेत्र में पिण्डरा में 53.4 फीसद, अजगरा में 52.1 फीसद, रोहनिया में 52.6 फीसद, वाराणसी उत्तरी में 52.8 फीसद, वाराणसी दक्षिणी में 53.2 फीसद, सेवापुरी में 55.3 फीसद मतदान दर्ज किया गया।

जिले की आठों विधानसभा क्षेत्र में कुल 30 लाख 29 हजार 215 मतदाताओं को चुनाव में भागीदारी करनी थी। लेकिन तमाम प्रयासों के बावजूद मतदान 58.80 प्रतिशत रहा। छिटपुट झड़प के बावजूद मतदान शांतिपूर्ण रहा। हालांकि ईवीएम खराब होने की शिकायतें अधिक रही। जिले में ईवीएम खराब होने से कहीं आधा घंटा तो कहीं एक घंटे तक मतदान भी प्रभावित रहा। वाराणसी के रणवीर संस्कृत विद्यालय कमच्छा पर तैनात सीपीएमएफ प्रभारी और आईटीबीपी के इंस्पेक्टर चमन लाल को कार्य में लापरवाही पर जिलाधिकारी वाराणसी ने हटा दिया। वाराणसी में एक केंद्र पर मंत्री नीलकंठ तिवारी को रोके जाने पर भाजपाइयों और पुलिसकर्मियों में झड़प भी हुई।