कैंडल मार्च निकालकर पुलवामा हमले के शहीदों को दी श्रद्धांजलि

 

देश के लिए जान कुरबान करने वाले अमर वीर जवानों को कैंडल मार्च निकालकर किया याद

लखनऊ। 14 फरवरी का दिन भारत के इतिहास में काला दिन माना जाता है। क्योंकि इसी दिन पुलवामा हमले में देश के 40 जांबाज शहीद हो गए थे। सोमवार को जम्मू कश्मीर में हुए पुलवामा हमले की तीसरी बरसी थी। 14 फरवरी 2019 को जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग से करीब 2500 जवानों को लेकर 78 बसों में सीआरपीएफ का काफिला गुजर रहा था। सड़क पर उस दिन भी सामान्य आवाजाही थी। सीआरपीएफ का काफिला पुलवामा पहुंचा ही था, तभी सड़क की दूसरे तरफ से आ रही एक कार ने सीआरपीएफ के काफिले के साथ चल रहे वाहन में टक्‍कर मार दी।

जैसे ही सामने से आ रही एसयूवी जवानों के काफिले से टकराई, वैसे ही उसमें विस्‍फोट हो गया। इस घातक हमले में सीआरपीएफ के 40 बहादुर जवान शहीद हो गए। भारत के पुलवामा हमले में शहीद अमर वीर जवानों की याद में निम्लिखित सम्मानित नौजवानों ने कैंडल मार्च निकाल कर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। कार्यक्रम की अध्यक्षता तुषार कनौजिया ने की जिसमे मनोज रावत, राजेंद्र प्रसाद गोंड, डी के कुमार, मंशाराम ,प्रशांत गुप्ता, बाबी आदि लोग मौजूद रहे।