Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / होली विशेष : बालस्वरूप के संग गोपियां आज खेलेंगी होली, गोकुल की 200 महिलाओं को भेजा गया न्यौता

होली विशेष : बालस्वरूप के संग गोपियां आज खेलेंगी होली, गोकुल की 200 महिलाओं को भेजा गया न्यौता

मथुरा (हि.स.)। भगवान श्रीकृष्ण की क्रीड़ा स्थली गोकुल में छड़ी मार होली की भव्य तैयारियां जोरों से चल रही हैं। सोमवार को होली खेलने के लिए गोकुल की दो सौ महिलाओं को न्यौता भेजा गया है। मंदिर के पुजारियों द्वारा छड़ियों पर गोटा लगाया जा रहा है। गोकुल की छड़ी मार होली को भव्य एवं दिव्य बनाने के लिए गोकुल नगरवासी तैयारियों में जुटे हुए हैं।

सोमवार को नंद भवन के सेवायत पुजारी मथुरा दास ने बताया कि भगवान श्रीकृष्ण जब छोटे थे तो गोपियां कन्हैया से होरी खेलने के लिए छड़ियों पर गोटा लगाकर होरी खेलती थी। गोपियों का कन्हैया पर इतना प्रेम था कि कहीं लाला को चोट नहीं लग जाये, इस लिए छड़ियों पर गोटा लगाया गया। यह परम्परा आज भी गोकुल में जीवित है गोकुल की महिलाओं को छड़ी पर गोटा लगा कर दिया जाता है।

नंद भवन से मंगलवार सुबह साढ़े ग्यारह बजे ठाकुर जी का डोला निकलेगा, जिसमें ठाकुर जी विराजमान होकर मंदिर से गांव की माखन चोर गली, दान गली, मान गली, अंधेरी गली, नंद चौक होकर मुरलीधर घाट पर पहुंचेंगे। गोकुल की गलियों में फूलों की होली खेलते हुए निकलेंगे।

यमुना किनारे मुरलीधर घाट पर होली चबूतरा है, वहां पर टेसू के फूलों से बना रंग एवं गुलाल बरसेगा। छड़ी मार होली खेलने के लिए गांव की दो सौ महिलाओं को न्योता दिया गया है। छड़ी मार होली खेलने से पूर्व मंदिर में ही सभी महिलाओं को मेवा युक्त दूध पिलाया जाता है।

होली खेलने के बाद सभी महिलाओं को फऊआ देने की रिवाज़ भी निभाई जाती है, जिसमें प्रत्येक महिला को एक थाल एवं भोग प्रसाद दिया जाता है। मंदिर के पुजारी पंडित विठ्ठल शर्मा ने बताया होली के लिए 11 कुंतल फूल मंगाएं गए हैं, जिसमें गेंदा, गुलाब, चमेली, मोगरा, आदि फूल शामिल हैं। 20 बोरी गुलाल एवं 50 किलो रंग हाथरस से मंगाया गया है।

Check Also

सांप के जहर को भी काट देता है ऊंट का आंसू, ‎क्यों माना जाता है करामाती

-दुबई की सीवीआरएल में हो रहा शोध, जल्दी ही प‎‎रिणाम आने की उम्मीद दुबई (ईएमएस)। ...