स्वास्थ्यकर्मी घर-घर जाकर खोजेंगे TB के मरीज, दो सप्ताह से ज्यादा समय से खांसी आ रही तो सतर्क

प्रयागराज।  टीबी मरीजों का पता लगाने लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम घर-घर पहुंचेगी। ऐसे मरीजों को चिह्नित करेंगे जिनमें TB के लक्षण मिलेंगे। ऐसे मरीजों को चिह्नित करके तत्काल इलाज शुरू कराया जाएगा। राष्ट्रीय क्षय उन्मूलन कार्यक्रम के तहत प्रयागराज में नौ मार्च से सक्रिय क्षय रोगी खोज अभियान ( एक्टिव केस फाइंडिंग ) चलाया जाएगा । इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने सभी तैयारियां पूर्ण कर ली हैं | जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. एके तिवारी ने बताया कि शासन स्तर पर दिए गए निर्देश के क्रम में जिले में नौ मार्च से टीबी रोगियों को खोजने का अभियान शुरू होगा जो 22 मार्च तक चलाया जाएगा।

जेल और वृद्धाश्रम में भी होगी जांच

दस दिनों तक चलने वाले इस अभियान के दौरान स्वास्थ्य विभाग की टीम जनपद की कुल आबादी की 20% आबादी के शहरी एवं ग्रामीण बस्ती तथा हाई रिस्क क्षेत्र में घर-घर जाकर लोगों की स्क्रीनिंग करेगी साथ ही नारी निकेतन, वृद्धा आश्रम, जेल में भी विशेष अभियान चलाकर जांच की जाएगी । जांच के बाद जिसमें टीबी की पुष्टि होगी उनका विभाग द्वारा निशुल्क इलाज कराया जाएगा।

उन्होंने बताया कि इस अभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग की टीम जहां कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन करते हुए टीबी के मरीजों की पहचान करेगी वहीं कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लोगों को मास्क लगाने, दो गज की दूरी का पालन करने, सैनिटाइजर से बार-बार हाथ धोने व भीड़भाड़ वाले स्थानों पर न जाने का सुझाव दिया जाएगा | इसके साथ ही कोविड टीका लगवाने के लिए लोगों को प्रेरित किया जाएगा।

दो सप्ताह से ज्यादा समय से खांसी आ रही तो सतर्क

डॉ. एके तिवारी बताते हैं कि यदि किसी को दो हफ्ते से ज्यादा समय से खांसी आ रही हो, खांसते समय खून आता हो, सीने में दर्द तथा बुखार एवं वजन कम होने की शिकायत हो तो वह बलगम की जांच अवश्य कराएं। सरकारी अस्पतालों में यह जांच निश्शुल्क कराई जाती है। जिला समन्वयक एसके सैमसंग एवं पीपीएम समन्वयक आशीष सिंह ने बताया कि अभियान की तैयारी शुरू कर दी गयी है | इसी क्रम में ASHA कार्यकर्ताओं एवं ANM को प्रशिक्षित कर कार्यक्रम के बारे में विस्तृत जानकारी दी गई है |