सीतापुर : दिल्ली में पकड़े गए सीतापुर के भिखारी बच्चे

गुरूवार को सीतापुर में अभियान चलाकर पकड़े गए थे दस बच्चे
चाइल्ड केयर तथा जीआरपी पुलिस ने ट्रेन से पकडे थे दस भिखारी बच्चे

सीतापुर। गुरूवार को सीतापुर में भिक्षावृत्ति में शामिल नन्हे फरिश्ते के तहत चलाए गए अभियान में पकड़े गए दस बच्चों को अंतिम चेतावनी देते हुए जहां उनके परिजनों के हवाले कर दिया गया वहीं बीते दिनों दिल्ली में सीतापुर के दो भिखारी बच्चों को पकड़ा गया है। जिसकी सूचना दिल्ली की राज्य बाल संरक्षण आयोग द्वारा प्रशासन को भेजी गई है और उनके द्वारा बताए गए पता पर जानकारी की गई लेकिन सीतापुर के प्रशासन के हाथ कुछ भी नहीं लगा है। फिर भी प्रोबेशन विभाग ने हिम्मत नहीं हारी है दिल्ली में पकड़े गए बच्चों के परिजनों की खोजबीन में जुट गई है।

बताते चलें कि दिल्ली के बाल संरक्षण आयोग द्वारा एक पत्र सीतापुर डीएम को भेजा गया है जिसमें बताया गया है कि दिल्ली बाल आयोग द्वारा 21 सितंबर 21 को चलाए गए अभियान में डीसीपीसीआर तथा सब डिवीजन मजिस्ट्रेट बसंत बिहार द्वारा सरोजनी नगर नई दिल्ली से नाबालिक कृष 9 वर्ष तथा दामिनी 10 वर्ष को बचाया गया है। यह दोनों बच्चों ने अपना पता बिजवार खुर्द जिला सीतापुर बताया है। बच्चों को संरक्षित कर उनके परिजनों तक पहुंचाया जाए। पत्र आने के बाद जिला प्रोबेशन विभाग द्वारा जब उक्त पते पर छानबीन कराई गई तो इस संबंध में कोई जानकारी नहीं मिली। लेकिन प्रभारी जिला प्रोबेशन अधिकारी राज कपूर ने फिर भी हिम्मत नहीं हारी है और वह इसकी जानकारी करने में जुटे हुए है। वहीं उनका यह मानना है कि इसके पीछे पूरा रैकेट काम कर रहा है। इस बारे में डीएम तथा एसपी से वार्ता हुई है।

अभियान चलाकर इस रैकेट का भंडाफोड़ किया जाएगा। वहीं गुरूवार को चाइल्ड केयर तथा जीआरपी पुलिस द्वारा सीतापुर के रेलवे स्टेशन पर आने वाली ट्रेनों में भिक्षा मांगने वाले बच्चों को बचाया गया। इनकी संख्या दस थी। ट्रेन में भीख मांगने वाले बच्चों को चाइल्ड केयर की सुपुर्दगी में किया गया। जहां उसे उन्हें उनके माता पिता के जिम्मे कर दिया गया। चाइल्ड केयर ने अंतिम चेतावनी देते हुए परिजनों के सुपुर्द कर दिया है।