Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / सीतापुर : तीन कर्मचारियों की सेवा समाप्ति के आदेश, जानिए पूरा मामला

सीतापुर : तीन कर्मचारियों की सेवा समाप्ति के आदेश, जानिए पूरा मामला

सीतापुर। मनरेगा में कराए जाने वाले कार्यो में मजदूरों की संख्याओं को लेकर किए जा रहे फर्जीवाड़े की पोल कल उस वक्त खुल गई जब सीडीओ अक्षत वर्मा तथा डीसी मनरेगा एसके श्रीवास्तव ने कार्यो का निरीक्षण किया। वहां पर डिमांड के सापेक्ष दस प्रतिशत भी मजदूर नहीं पाए। एक कार्य में तो मजदूर ही नहीं मिलें। इन फर्जीवाड़ों को लेकर सीडीओ ने दो रोजगार सेवक तथा एक तकनीकि सहायक की सेवा समाप्ति के निर्देश दिए है।

बताते चलें कि सीडीओ अक्षत वर्मा तथा डीसी मनरेगा एसके श्रीवास्तव उन कार्यो का निरीक्षण करने निकल पड़े जिन कार्यो में मजदूरों की सर्वाधिक डिमांड की गई थी। वह बेहटा ब्लाक के ग्राम रूकनापुर पहुंचे। यहां पर तीन कार्य चल रहे थे जिनमें 205 मजदूरों की डिमांड की गई थी। अधिकारियों ने जब यहां

तीनों कार्यो का निरीक्षण किया तो दो कामों में 205 लेबर डिमांड की जगह 36 लेबर पाए गए जबकि तीसरे कार्य में लेबर ही नहीं मिले। इसके बाद अधिकारी सेखनापुर पहुंचे। यहां पर 331 लेबर की डिमांड की गई थी जिसमें से 111 पीएम आवास में काम करते मिले जबकि अन्य लेबरों को दूसरे चार कामों में लगा होना बताया गया था अधिकारियों ने जहब दूसरे वाले चार काम देखे तो वह बंद पाए गए। इन फर्जीवाडों को लेकर नाराज सीडीओ ने डीसी मनरेगा को कार्रवाई के निर्देष दिए।

डीसी मनरेगा एसके श्रीवात्व ने बताया कि सीडीओ के आदेशानुसार रूकनापुर के रोजगार सेवक सुनील कुमार तथा सेखनापुर के रोजगार सेवक अनिल कुमार व यहीं के तकनीक सहायक संजीव कुमार की सेवाएं समाप्त करने के निर्देश दिए गए है। वहीं कार्रवाई के लिए ग्राम प्रधानों को नोटिस जारी की जा रही है।

Check Also

प्रतापगढ़ : 42 वर्षों से रामपुर खास में फहरा रहा है कांग्रेस का झण्डा

– पिता से विरासत में मिली विधायिकी को बचाना मोना के लिये चुनौती लालगंज, प्रतापगढ़। ...