सीतापुर : जब पीएचसी ही बीमार तो कैसे होगा इलाज, देंखे तस्वीरें

कमलापुर-सीतापुर। जहाँ पर देश के प्रधानमंत्री से लेकर प्रदेश के मुखिया स्वच्छ भारत स्वस्थ भारत का अभियान चला रहे है वही पर सीतापुर जनपद मे स्वास्थ्य मोहकमा उनके स्वच्छ भारत अभियान को खुले आम चुनौती दे रहा है। नेशनल हाईवे 24 कमलापुर मे स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के परिसर मे गंदगी का अम्बार है यहाँ के परिसर मे बड़ी-बड़ी घास और झाडि़यों ने स्वास्थ्य कर्मियों के आवासो को पूरी तरह से घेर लिया है। लगता है इन आवासो मे कोई रहता ही नहीं परन्तु हकीकत ये है कि यहाँ ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक और फार्मासिस्ट इन्ही आवासो मे रहकर अपनी रात गुजारते है। बड़ी-बड़ी घास और झाडि़यों से घिरे इन आवासो मे कई बार जहरीले सांप और बिच्छूओ का सामना भी करना पड़ता है।

सबसे दिलचस्प बात यह है कि इस स्वास्थ्य केंद्र का निरीक्षण समय-समय पर जिले के उच्च अधिकारिओं द्वारा होता भी रहता है फिर भी इस गन्दगी और साफ सफाई पर किसी भी अधिकारी का ध्यान नहीं जाता आखिर क्यों? जब स्टाफ से यहाँ के सफाई कर्मी के बारे मे जानकारी की गयी तो बताया गया कि सफाई कर्मी कहता है मेरा काम सिर्फ झाड़ू लगाना है ये घास और झाडि़या हम नहीं साफ करेंगे कहकर अपना पल्लू झाड़ लेता है। इसी परिसर मे बने पुराने भवन के दोनों ओर गाय के गोबर और गंदगी का ढेर लगा है जबकि नव निर्मित भवन के दोनों ओर बड़ी-बड़ी घास और प्रयोग की गयी सिरिंज तथा दवाई के खाली पैकेट कूड़े के साथ ढेर के रूप मे लगे है आवास की स्थिति ऐसे मालूम पडती है कि जैसे ये किसी उपेक्षा का शिकार हो गए है। इन पर कोई ध्यान देने वाला ही नहीं।

यही पर तैनात एकस्टाफ का कहना है कि इस गन्दगी और साफ सफाई के सम्बन्ध मे कई बार उच्च अधिकारिओं को लिखित प्रार्थना पत्र दिया गया है परन्तु वो पत्र उनके कूड़ेदान की टोकरी की शोभा बढ़ाते रहे आज तक कोई अमल नहीं हुआ है। इस बारे में चिकित्सा अधीक्षक से उनके संपर्क सूत्र संख्यापर बात करना चाहा तो उनका मोबाइल नहीं मिला।