Home / उत्तर प्रदेश / सरकार हमे पोस्टमार्टम रिपोर्ट चाहिए…बहराइच में किसान के परिजन नहीं कर रहे अंतिम संस्कार

सरकार हमे पोस्टमार्टम रिपोर्ट चाहिए…बहराइच में किसान के परिजन नहीं कर रहे अंतिम संस्कार

लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा में 9 लोगों की मौत हो गई थी। मरने वालों में 4 किसान भी शामिल हैं। जिनमें से दो किसान बहराइच के रहने वाले थे। सोमवार देर शाम मृतक किसानों का शव बहराइच पहुंच चुका है, लेकिन अभी तक उनका अंतिम संस्कार नहीं किया गया है। किसानों के परिजनों ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट की मांग की है।

रिपोर्ट मिलने के बाद ही होगा अंतिम संस्कार

परिजनों ने कहा है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद ही मृतक किसानों का अंतिम संस्कार किया जाएगा। मामले की सूचना मिलने पर डीएम और एसपी मौके पर पहुंचे और परिजनों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन परिजन अपनी मांग पर अड़े रहे।

परिजनों का आरोप- गोली मारकर की गई हत्या

मटेरा थाना क्षेत्र के निमोनिया गांव निवासी किसान गुरविंदर सिंह और नानपारा कोतवाली के बंजारन टोला निवासी किसान दलजीत सिंह के शव का अंतिम संस्कार परिजनों ने करने से मना कर दिया है। परिजनों ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट की मांग की है। परिजनों ने कहा कि अभी तक उन्हें पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं मिली है। उनका आरोप है कि किसान की मौत गोली लगने से हुई है, लेकिन यह बात पोस्टमार्टम रिपोर्ट में नहीं दिखाई गई है। बताया जा रहा है कि किसानों के परिजनों की मांग के बाद जिले के सीएमओ पोस्टमार्टम रिपोर्ट लेकर मटेरा गांव जा रहे हैं। वो कुछ ही देर में गांव पहुंच जाएंगे और रिपोर्ट परिजनों को सौंपेंगे।

फोन पर प्रियंका गांधी ने परिजनों से की बात

मृतक किसान गुरविंदर सिंह के पिता सतविंदर सिंह से उत्तर प्रदेश कांग्रेस की प्रभारी और राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने फोन पर बात की है। प्रियंका ने स्थिति का जायजा लिया और शोक संवेदना व्यक्त की। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी उनके परिवार और सभी किसानों के साथ है। बताया जा रहा है कि भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता किसानों के परिवार से मिलने पहुंच सकते हैं।

पंजाबी फिल्मों की अभिनेत्री ने की किसानों के परिजनों से मुलाकात

पंजाबी फिल्मों की मशहूर अभिनेत्री सोनिया मान किसानों के परिजनों से मिलने बहराइच पहुंची हैं। मौके पर जाकर उन्होंने सरकार पर जमकर हमला बोला। सोनिया ने कहा कि हमने वीडियो बनाया है, हमारे किसान भाई को कान के पास गोली मारी गई है, लेकिन मंत्री के बेटे को बचाने के लिए पोस्टमार्टम रिपोर्ट में झूठ दिखाया गया है। ऐसे डॉक्टर को तो शर्म आनी चाहिए। हमें यहां आने नहीं दिया जा रहा था, हम झूठ बोलकर यहां तक आए हैं। हमारी मांग है कि किसानों के शव का फिर से पोस्टमार्टम हो और दिल्ली में कोई अच्छा डॉक्टर इनका पोस्टमार्टम करे। मैं बता रही हूं जब तक मोनू मिश्रा को भेज नहीं भेजा जाएगा, तब तक हम लोग ऐसे ही लड़ते रहेंगे और किसानों के शव यहीं रखे रहेंगे।

छावनी में तब्दील हुआ गांव

किसानों के शव गांव में आने के गांव को सुरक्षा के मद्देनजर छावनी में तब्दील कर दिया गया है। मटेरा गांव में जाने वाली हर सड़कों पर पुलिस का पहरा है। आने जाने वाले लोगों की पुलिस तलाशी ले रही है। घटनास्थल पर एसपी खुद मौजूद हैं।

Check Also

खुशखबरी: गोरखपुर शहर को मिलेगा मल्टीलेवल पार्किंग का तोहफा, जानिए कैसे उठा सकते हैं इसका लाभ

गोरखपुर। महानगर में बहुप्रतीक्षित मल्टीलेवल पार्किंग अब जल्द ही लोगों के लिए खोल दी जाएगी। ...