शिक्षा के मन्दिर में शराब के नशे में धुत्त मिले प्रधानाध्यापक, जानें फिर क्या हुआ

भोगांव/मैनपुरी। शिक्षक को हमारे समाज में सबसे उंचा दर्जा दिया जाता है। शिक्षक ही बच्चों को शिक्षित करके देश एवं समाज की नीव रखकर भागीदार बनाता है। लेकिन जव शिक्षक ही शराब के नशे में चूर रहेगा तो बच्चो को क्या शिक्षा देगा, क्या संस्कार देगा जो कि एक प्रश्न चिन्ह बन गया है। ऐसा ही मामला ब्लाक सुल्तानगंज क्षेत्र के ग्राम बदनपुर के प्राथमिक विद्यालय मंे उस समय देखने को मिला जब खण्ड शिक्षा अधिकारी ने विद्यालय का आकस्मिक निरीक्षण किया तो गुरूजी शराब के नशे मंे धुत्त मिले। अनियमिताओं का भण्डार मिलने पर खण्ड शिक्षाधिकारी ने शिक्षक को नोटिस देते हुये उच्चाधिकारियों को मामले की जानकारी दी है।

बताते है कि ग्राम बदनपुर के प्राथमिक विद्यालय में प्रधानाध्यापक रामकिशोर जो शराब पीकर विद्यालय में आकर धुत्त बना रहता है। जिसकी शिकायतंे खण्ड शिक्षा अधिकारी को मिलने पर खण्ड शिक्षाधिकारी अनुपम शुक्ला ने शनिवार को विद्यालय का निरीक्षण किया तो विद्यालय में अभिलेखों की हेराफेरी के साथ साथ विद्यालय में छात्र कम थे। मिड डे मील संचालित हो रहा है और न ही बच्चों को दूध और फल का वितरण किया जा रहा है। जब प्रधानाध्यापक से जानकारी चांही तो प्रधानाध्यापक शराब के नशे में इतने धुत्त थे कि कुछ बोल ही नहीं पाये।