विधानसभा चुनाव : प्रचंड लहर में भी यहां नहीं चला था भाजपा का जादू, जानिए वजह

महमूदाबाद-सीतापुर। प्रदेश में भाजपा नेतृत्व के निशाने पर महमूदाबाद विधानसभा सीट खास इसलिए भी है क्योंकि पिछले चुनाव में मोदी की लहर भी अपने आगोश में नही समेट पाई थी और लगातार छठी बार सपा विधायक रहे नरेंद्र सिंह वर्मा ने यह सीट जीत ली थी। प्रशासन द्वारा करीब आधा सैकड़ा मतदान केंद्रों के सवा सौ मतदेय स्थलों को संवेदनशील घोषित किया गया है। जिन पर चुनाव आयोग की विशेष नजर रहेगी। हालांकि यहां से छह बार विधायक रहे नरेन्द्र वर्मा तीन बार भाजपा से ही विधायक रह चुके है लेकिन उन्होंने 2007 में भाजपा का दामन छोड़ कर सपा में साइकिल की सवारी की और तब से वह लागातार सपा के ही विधायक चुने जा रहे है। बीते चुनाव 2017 में वह किसी तरह से बच ही गए थे। अगर थोड़ा और भाजपा मजबूत होती तो यहां से भाजपा की प्रत्याशी आशा मौर्य 1906 मतों से न हारती। लेकिन कहना गलत न होगा िकइस विधानसभा में छह बार से नरेन्द्र वर्मा का जादू चल रहा है न कि योगी और मोदी का।

अब तक के महमूदाबाद विधानसभा क्षेत्र में चुने गए विधायक
वर्ष 1962 – शिवेंद्र प्रताप – जेएस
वर्ष 1967 – बी. प्रसाद – एसएसपी
वर्ष 1969 – श्याम सुंदर गुप्ता – कांग्रेस
वर्ष 1974 – अम्मार रिजवी – कांग्रेस
वर्ष 1977 – रामनरायण वर्मा – जेएनपी
वर्ष 1980 – अम्मार रिजवी – कांग्रेस
वर्ष 1985 – मो. आमिर खान – कांग्रेस
वर्ष 1989 – मो. आमिर खान – कांग्रेस
वर्ष 1991 – नरेंद्र सिंह वर्मा – भाजपा
वर्ष 1993 – नरेंद्र सिंह वर्मा – भाजपा
वर्ष 1996 – अम्मार रिजवी – कांग्रेस
वर्ष 2002 – नरेंद्र सिंह वर्मा – भाजपा
वर्ष 2007 – नरेंद्र सिंह वर्मा – सपा
वर्ष 2012 – नरेंद्र सिंह वर्मा – सपा
वर्ष 2017 – नरेंद्र सिंह वर्मा – सपा