Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / लापरवाही हो सकती है घातक : लू व गर्म हवा से बचाव के लिए राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने जारी की एडवाईज़री

लापरवाही हो सकती है घातक : लू व गर्म हवा से बचाव के लिए राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने जारी की एडवाईज़री

बहराइच । प्रदेश में लू के प्रभाव को कम करने तथा लू के कारण होने वाली मौतों की रोकथाम हेतु उ.प्र. राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा एडवाईज़री जारी की गयी है। जारी एडवाइज़री में लोगों को सुझाव दिया गया है कि लू के प्रकोप एवं गर्म हवा से बचनेे के लिए हर संभव सावधानी बरतें।

आमजन को सुझाव दिया गया है कि कड़ी धूप विशेषकर मध्यान्ह 12ः00 बजे से अपरान्ह 03ः00 बजे के बीच बाहर न निकलें, जितनी बार हो सके पानी पियें, प्यास न लगे तो भी पानी पियें। हल्के रंग के ढीले-ढीले सूती कपड़े पहनें। धूप से बचने के लिए गमछा, टोपी, छाता, धूप का चश्मा, जूते और चप्पल का इस्तेमाल करें। सफर में अपने साथ पानी रखें। शराब, चाय, कॉफी जैसे पेय पदार्थों का इस्तेमाल न करें, यह शरीर को निर्जलित कर सकते हैं। यदि फील्ड का कार्य है तो, टोपी, गमछा या छाते का इस्तेमाल जरूर करें और गीले कपड़े को अपने चेहरे, सिर और गर्दन पर रखें। अगर तबियत ठीक न लगे या चक्कर आए तो तुरन्त चिकित्सक से सम्पर्क करें। घर में बना पेय पदार्थ जैसे कि लस्सी, नमक चीनी का घोल, नींबू पानी, छांछ, आम का पना इत्यादि का सेवन करें। जानवरों को छांव में रखें और उन्हें भी खूब पानी पीने को दें। अपने घर को ठंड़ा रखें, पर्दे, शटर आदि का इस्तेमाल करे। रात में खिड़कियाँ खुली रखें। फैन, ढीले कपड़े का उपयोग करें। ठंडे पानी से बार बार नहाएं।

क्या करें और क्या न करें के सम्बन्ध में सुझाव दिया गया है कि धूप में खड़े वाहनों में बच्चों एवं पालतू जानवरों को न छोड़ें। खाना बनाते समय कमरे के दरवाजे के खिड़की एवं दरवाजे खुलें रखें जिससे हवा का आना जाना बना रहे। नशीले पदार्थ, शराब तथा अल्कोहल के सेवन से बचें। उच्च प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करने से बचें तथा बासी भोजन न करें। खिड़की को रिफ्लेक्टर जैसे एल्युमीनियम पन्नी, गत्ते इत्यादि से ढक कर रखें, ताकि बाहर की गर्मी को अन्दर आने से रोका जा सके।

उन खिड़कियों व दरवाजों पर जिनसे दोपहर के समय गर्म हवाएँ आती है, काले पर्दे लगाकर रखना चाहिए। स्थानीय मौसम के पूर्वनुमान को सुनें और आगामी तापमान में होने वाले परिवर्तन के प्रति सतर्क रहें । आपत् स्थिति से निपटने के लिए प्राथमिक उपचार का प्रशिक्षण लें। बच्चों व पालतू जानवरों को कभी भी बंद वाहन में अकेला ना छोड़े। जहाँ तक संभव हो घर में ही रहंे तथा सूर्य के सम्पर्क से बचें। सूर्य के ताप से बचने के लिए जहाँ तक संभव हो घर की निचली मंजिल पर रहें। संतुलित, हल्का व नियमित भोजन करें। घर से बाहर अपने शरीर व सिर को कपड़े या टोपी से ढक कर रखें।

Check Also

सांप के जहर को भी काट देता है ऊंट का आंसू, ‎क्यों माना जाता है करामाती

-दुबई की सीवीआरएल में हो रहा शोध, जल्दी ही प‎‎रिणाम आने की उम्मीद दुबई (ईएमएस)। ...