रेलवे स्टेशन पर हड़कंप : ट्रेन से बरामद हुई 6 नाबालिक लड़कियां, पूरा मामला जानकर चौक जाएंगे आप

बाराबंकी. उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के रेलवे स्टेशन पर उस समय हड़कंप मच गया, जब यहां ट्रेन से छह लड़कियों को संदिग्ध परिस्थितियों में जीआरपी ने रेस्क्यू किया। इन लड़कियों को दो लोग ट्रेन से बिहार से गुजरात के सूरत लेकर जा रहे थे। इसी ट्रेन पर एक दूसरे यात्री और जब शक हुआ तो उसने इन लड़कियों की जानकारी चाइल्डलाइन को दी। जिसके बाद चाइल्ड लाइन से जुड़े लोग एक्टिव हुए और जीआरपी की मदद से सभी लड़कियों का बाराबंकी रेलवे स्टेशन पर रेस्क्यू किया गया। वहीं जीआरपी द्वारा पकड़े गए दो लोगों ने बताया कि वह इन लड़कियों को सूरत के एक मदरसे में पढ़ाई के लिए लेकर जा रहे थे। फिलहाल इस पूरे मामले की जांच में जुटी है और लड़कियों को चाइल्ड लाइन के हवाले कर दिया गया है।

मानव तस्करी की आशंका में छापेमारी से बरामद हुई 6 लड़कियां

बाराबंकी रेलवे स्टेशन पर अवध एक्सप्रेस से यात्रा कर रही 6 लड़कियों को मानव तस्करी की आशंका के चलते उतार लिया गया। इनमें सभी लड़कियां नाबालिग हैं। इन सभी को दो व्यक्ति बिहार से सूरत लेकर जा रहे थे। वहीं ट्रेन से सफर कर रहे एक यात्री ने इन लड़कियों को 2 लोगों के द्वारा संदिग्ध परिस्थितियों में ले जाने की जानकारी चाइल्ड लाइन को दी। जिसके बाद चाइल्डलाइन ने जीआरपी बाराबंकी से संपर्क करके इन सभी लड़कियों का रेस्क्यू करवाया। वहीं जीआरपी ने इन सभी लड़कियों को रेस्क्यू करके चाइल्ड लाइन को सौंप दिया। जीआरपी ने दो लोगों को गिरफ्तार भी किया है, जो इन लड़कियों को लेकर जा रहे थे। गिरफ्तार लोगों के मुताबिक वह इन लड़कियों को सूरत के एक मदरसे में पढ़ाई के लिए लेकर जा रहे थे। गिरफ्तार दो लोगों में से एक ने बताया कि इन तीन लड़कियों में से एक लड़की उनकी भी है।

रेस्क्यू में मेरी से नाबालिग लड़कियां

आपको बता दें कि अवध एक्सप्रेस से यात्रा कर रही रेस्क्यू की गई सभी छह नाबालिगों की उम्र 6 वर्ष से 10 वर्ष के बीच है। ट्रेन में सफर कर रहे एक शख्स को जब संदेह हुआ तो उसने चाइल्ड लाइन को इसकी जानकारी दी। चाइल्ड लाइन के डायरेक्टर ने जीआरपी बाराबंकी को इसकी सूचना दी। जीआरपी इंस्पेक्टर ने महिला पुलिस कर्मियों के साथ इन सभी को बाराबंकी रेलवे स्टेशन पर उतार लिया।

पढ़ाई के नाम पर ले जाया जा रहा था गुजरात

पूछताछ में इन लड़कियों को ले जा रहे दो व्यक्तियों ने बताया कि वह सभी को बिहार से गुजरात के सूरत ले जा रहे थे। जीआरपी और चाइल्ड लाइन के लोगों ने जब इन लोगों से पूछताछ की तो इन लोगों ने बताया कि वह इन लड़कियों को सूरत में मदरसा में पढ़ाई के लिए लेकर जा रहे थे। इन लोगों का कहना है कि यह सभी लड़कियां काफी गरीब परिवार से हैं, इसलिए इनके परिजन इनको पढ़ा-लिखा नहीं पा रहे थे। इसलिए वह इन सभी लड़कियों को लेकर जा रहे थे। गिरफ्तार दो लोगों में से एक ने बताया कि इन तीन लड़कियों में से एक लड़की उनकी भी है।

 

नाबालिग लड़कियों को ले जा रहे दो व्यक्ति गिरफ्तारवहीं चाइल्ड लाइन के डायरेक्टर रमेश और जीआरपी के इंस्पेक्टर अनूप वर्मा ने बताया कि सभी लड़कियों को संदिग्ध परिस्थितियों में ट्रेन से उतारा गया है। उन्हें ट्रेन के एक यात्री ने जानकारी दी थी कि कुछ लड़कियों को दो लोग संदिग्ध परिस्थितियों में लेकर कहीं जा रहे हैं। इस जानकारी पर उन्होंने शिनाख्त की और सभी लड़कियों को सकुशल बाराबंकी रेलवे स्टेशन पर उतार दिया गया। इन लड़कियों को सरताज और मोहम्मद अकबर नाम के शख्स लेकर जा रहे थे। दोनों से पूछताछ की जा रही है, जो भी तथ्य निकलकर सामने आएंगे, उसके मुताबिक कार्रवाई की जाएगी।