यूपी में बवाल : पुलिस के रडार पर कई बड़े नाम, जानिए किन-किन शहरों में हुआ प्रदर्शन…

0
1640

लखनऊ/प्रयागराज: बीते दिन शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद प्रदेश के कई जिलों में पूर्व बीजेपी नेता नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी और विवादित बयान को लेकर जमकर बवाल हुआ. इसी बीच कुछ शरारती तत्वों ने पत्थरबाजी की. शुक्रवार दिन भर हुए बवाल में कुल 227 आरोपी गिरफ्तार किए गए हैं. इसमें सबसे ज्यादा आरोपी प्रयागराज 68, सहारनपुर 48, हाथरस 50, अंबेडकरनगर 28, मुरादाबाद 25 और फिरोजाबाद 8 शामिल है.

प्रयागराज में 68 उपद्रवी गिरफ्तार
प्रयागराज में जुमे की नमाज के बाद शुरू हुए बवाल के मामले में पुलिस ने अब तक 68 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. अलग-अलग गलियों के बाहर से पकड़े गए इन आरोपियों को पुलिस थाने ले गई. पत्थर बाजी के आरोप में पकड़े गए इन युवकों से पुलिस पूंछतांछ कर रही है. पुलिस पता लगाने में जुटी हुई है कि इस पत्थर बाजी के पीछे किसका हाथ है. क्योंकि जिस तरह से जुमे की नमाज के बाद भीड़ अटाला चौराहे पर जमा हुई और उसके बाद विरोध प्रदर्शन के साथ बवाल शुरू किया गया. उसे देखकर पुलिस को शक हो रहा है कि इस घटना के पीछे जरूर किसी की साजिश है. पुलिस को शक है कि दो साल पहले हुए सीएए एनआरसी के आंदोलन से जुड़े लोगों का हाथ इस घटना के पीछे हो सकता है. कुछ स्थानीय लोगों ने भी पुलिस को इसी तरह का इनपुट दिया है, जिसके बाद से पुलिस एआईएमआईएम के कुछ स्थानीय नेताओं के साथ ही उनके साथ जुड़कर सीएए एनआरसी के अंदोलन को आगे बढ़ाने वालों का इस कांड से जुड़ा कनेक्शन को पुलिस खंगाल रही है.

ADG ने कहा उपद्रवियों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई
एडीजी प्रेम प्रकाश का साफ कहना है कि इस घटना के पीछे के सीएए एनआरसी आंदोलन से जुड़े लोगों का हाथ होने की आशंका है, जिसमें एआईएमआईएम के नेता शाह आलम समेत कुछ दूसरे नाम हैं. इनके अलावा वामपंथी नेता डॉ. आशीष मित्तल और जेएनयू की छात्रा रही सारा का नाम प्रमुख हैं. इसके साथ ही मजीदिया इस्लामिया इंटर कॉलेज से जुड़े प्रबंधतंत्र के लोग और अटाला मस्जिद से जुड़े लोगों को इस उपद्रव की जानकारी थी. उसके बावजूद इन लोगों ने किसी को रोकने का प्रयास नहीं किया. इतना ही नहीं अटाला इलाके में सजने वाली बिरयानी और नॉनवेज की दुकानों के सभी दुकानदारों भी इस साजिश में शामिल हो सकते हैं. एडीजी ने साफ कहा कि यहां पर भीड़ में युवाओं को धार्मिक एंगल पर भड़काकर उपद्रव और पथराव के लिए आगे किया गया है.उन्होंने कहाकि सभी की भूमिका की जांच कर उन सभी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. जो भी इस देश विरोधी साजिश में शामिल होगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

पुलिस की गाड़ी में आगजनी के बाद दमकल पर भी किया गया पथराव
शाम करीब चार बजे जब पुलिस और उपद्रवियों के बीच गुरिल्ला वॉर चल रहा था.उसी दौरान बवालियों ने पीएसी की एक ट्रक में आग लगाने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने उन्हें खदेड़ दिया. जिसके बाद उन लोगों ने बाइक को आग के हवाले कर दिया. इस दौरान पत्थरबाजों की संख्या बढ़ी और उन्होंने पुलिस के जवानों को पीछे कर दिया. इस दौरान उन लोगों ने पीएसी की उस ट्रक को आग के हवाले कर दिया.आगजनी की सूचना के बाद जब दमकल की गाड़ी आग बुझाने जाने लगी तो उस पर पथराव शुरू कर दिया गया.जिसके बाद दमकल की गाड़ी को रोककर एक बार फिर पुलिस के जवानों ने मोर्चा संभाला और किसी तरह से पीएसी के ट्रक में लगी आग को बुझाया गया लेकिन तब तक गाड़ी का काफी हिस्सा जल चुका था.लेकिन बाइक और दूसरी गाड़ी तक तो दमकल की गाड़ी आग बुझाने भी नहीं पहुंच सकी.

पत्थरबाजों के निशाने पर पत्रकार
पथराव की इस घटना में उपद्रवियों के निशाने पर सिर्फ पुलिस वाले ही नहीं थे. बल्कि पुलिस के जवान और अधिकारियों के अलावा पत्रकार भी उनके निशाने पर थे. पत्थरबाजी की इस घटना में पुलिस प्रशासन के अफसरों के साथ ही कई पत्रकार भी चोटिल हुए हैं. जबकि आरएएफ और पुलिस पीएसी के कुछ जवान घायल हुए हैं. इतना ही नहीं जानकारी यह भी मिली है कि पुलिस की जवाबी कार्रवाई से कई पत्थरबाज और गलियों में रहने वाले लोग भी घायल हुए हैं.

शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद प्रदेश के कई स्थानों पर हिंसा और बवाल हुआ. सीएम योगी ने घटना का संज्ञान लेते हुए उपद्रवियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए. मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को असामाजिक तत्वों के खिलाफ स्वतंत्र रूप से कड़ी कार्रवाई करने के स्पष्ट निर्देश दिए हैं.

कहां हुईं कितनी गिरफ्तारी ?

 

सहारनपुर में जुमे की नमाज के बाद सड़क पर उतरे नमाजी
जुमे की नमाज के बाद सहारनपुर की सड़कों पर नमाजी उतर आए. प्रदर्शन के दौरान नमाजियों ने नारे तकदीर का गुणगान किया. घटना सहारनपुर जिले के घण्टाघर चौराहे के पास की है. बवाल बढ़ता देख मुख्य बाजार के दुकानदार दुकानें बंद करके भाग गए. शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए पुलिस ने उपद्रव कर रहे नमाजियों पर लाठियां मारीं. वहीं, उपद्रव कर रहे 48 लोगों को गिरफ्तार किया. उपद्रव को कंट्रोल करने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस, पीएसी व आरआरएफ की टीमें लगाई गईं हैं. घटनास्थल पर कमिश्नर, आईजी, डीएम एसएसपी समेत तमाम आला अधिकारी मुस्तैद हैं.

कानपुर हिंसा और पूर्व बीजेपी प्रवक्ता नुपुर शर्मा के बयान के विरोध में शुक्रवार को प्रदेश के कई स्थानों पर मुस्लिम समुदाय के लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया. इसी क्रम में सहारनपुर में जुमे की नमाज के बाद हजारों की संख्या में नमाजी सड़कों पर उतर आए. सड़कों पर उतरे नमाजियों ने शहर के मुख्य बाजार की सारी दुकानें बंद करवा दीं. प्रदर्शन कर रहे नमाजी ‘अल्लाह हु अकबर’ का नारा लगाते हुए घण्टाघर पहुंचे और जमकर बवाल काटा. इसी बीच दुकानदारों ने उपद्रव कर रहे नमाजियों पर लूट और मारपीट का आरोप लगाया है. दुकानदारों ने बताया कि उपद्रव कर रहे नमाजियों ने दुकानों के बाहर खड़े वाहनों को गिरा दिया और जबरन दुकानें बंद करवा दीं. उपद्रव कर रहे नामाजी पुलिस को देखकर भाग निकले.

आईजी डॉ. प्रतिन्द्र सिंह ने बताया कि जुमे की नमाज के बाद हजारों की संख्या में नमाजियों ने सड़कों पर उतर कर प्रदर्शन किया. वापस लौटते वक्त प्रदर्शनकारियों ने दुकानों में लूटपाट करने की कोशिश की और विरोध करने पर व्यापारियों के साथ मारपीट की गई. ऐसे लोगों को चिन्हित किया जा रहा है. उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करके कानूनी कार्रवाई की जाएगी. वहीं एसएसपी आकाश तोमर ने बताया कि यह प्रदर्शन बिना अनुमति के किया गया है. हजारों लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जा रहा है. सीसीटीवी फुटेज के आधार पर उपद्रवियों को चिंन्हित करके उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

मुरादाबाद जिले में जामा मस्जिद में जुमे की नमाज के बाद पूर्व बीजेपी नेता नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग करते हुए नमाजियों ने सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया. नारेबाजी कर रहे नमाजियों को पुलिस ने किसी तरह समझा-बुझाकर शांत कराया. इसी बीच कुछ शरारती तत्व गलियों में जाकर जामा मस्जिद और उसके आस-पास के इलाकों में प्रदर्शन करने लगे. प्रदर्शन के कारण माहौल बिगड़ता देख पुलिस हल्का बल प्रयोग करके सभी खदेड़ दिया.

फिरोजाबाद में पूर्व बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी के लिए नमाजियों ने काटा बवाल
पैगंबर मुहम्मद पर दिए गए बयान का मामला अभी थमा नहीं है. फिरोजाबाद जिले में शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद नमाजियों ने पूर्व बीजेपी प्रवक्ता नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी के लिए प्रदर्शन किया. नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर नमाजी सड़क पर उतर आए और जमकर बवाल किया. इस दौरान जमकर नारेबाजी और पुलिस से तीखी नोंकझोंक हुई. उपद्रव कर रहे कुछ लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है. जिले के नालबंद चौराहा, नगला बरी, नैनी ग्लास कारखाने चौराहे, जाटवपुरी चौराहे पर लोगों की बड़ी संख्या में भीड़ जमा है.

पुलिस और जिला प्रशासन द्वारा शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील और कड़े इंतजामों के बीच कुछ उपद्रवियों ने हंगामा किया. टांडा में जुमे की नमाज के बाद एकत्रित भीड़ ने उपद्रव शुरू कर दिया. जब पुलिस ने उपद्रवियों को रोकने की कोशिश की, तो उन्होंने पुलिस पर पथराव कर दिया. जवाब में पुलिस ने उपद्रवियों पर लाठियां भांजी, तो वह भाग निकले. हंगामा कर रहे कई लोगों को पुलिस में हिरासत में लिया है.