Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / यूपी न्यूज़ : मायावती ने इस तारीख को बुलाई अहम बैठक, क्या कई नेता होंगे पार्टी से बाहर

यूपी न्यूज़ : मायावती ने इस तारीख को बुलाई अहम बैठक, क्या कई नेता होंगे पार्टी से बाहर

बहुजन समाज पार्टी विधानसभा चुनाव 2022 के रिजल्ट को देखकर कर काफी मायूस थी। और बसपा सुप्रीमो मायावती भी लोकसभा चुनाव 2024 के लिए नई रणनीति को लेकर मंथन कर रही है। पर आजमगढ़ उपचुनाव बसपा के लिए एक संजीवनी बन कर आया। आजमगढ़ उप चुनाव में बसपा प्रत्याशी हार तो जरूर गया पर उम्मीदवार के बेहतर प्रदर्शन से मायावती को अब अपनी जमीन मजबूत होती नजर आ रही है।

अपनी उम्मीदों को साकार रुप देने के लिए बसपा सुप्रीमो मायावती ने 30 जून को एक बड़ी बैठक बुलाई है। इसमें राष्ट्रीय और प्रदेश कमेटी के लोग शामिल होगा। इस बैठक में संभावना है कि, मायावती मिशन-2024 की तैयारियों पर मंथन करेंगी। साथ इस बैठक में मायावती कुछ सख्त फैसले भी ले सकती है। कुछ बड़े तो कुछ गद्दार नेताओं पर कार्रवाई हो सकती है। पार्टी विरोधी गतिविधियों के कुछ और बड़े लोगों को बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है।

30 जून की बैठक काफी अहम

मायावती विधानसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद लखनऊ में ही रहकर लगातार संगठन विस्तार और इसके कामकाज की समीक्षा कर रही हैं। विधानसभा चुनाव में अपेक्षाकृत काम न करने वालों को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है या फिर उन्हें हाशिये पर डाला जा रहा है। इस हिसाब से 30 जून को होने वाली बैठक काफी अहम मानी जा रही है। सूत्रों का कहना है कि 30 जून की बैठक में जिम्मेदारों के कामकाज की समीक्षा की जाएगी और राष्ट्रीय और प्रदेश कोआर्डिनेटरों से प्रगति रिपोर्ट ली जाएगी। इसके आधार पर आगे का फैसला किया जाएगा। प्रबुद्ध वर्ग सम्‍मेलन में अहम जिम्मेदारी निभाने वाले नकुल दुबे को गलत रिपोर्ट देने पर पार्टी से बाहर किया जा चुका है।

निकाय चुनाव पर भी होगी चर्चा

प्रदेश कोआर्डिनेटरों के साथ मुख्य मंडल प्रभारियों को इसमें बुलाया गया है। मायावती मौजूदा समय कॉडर के नेताओं को अधिक महत्व दे रही हैं। इसके अलावा मुस्लिम समुदाय के नेताओं को अहम जिम्मेदारियां सौंप रही हैं। बैठक में नवंबर में होने वाले निकाय चुनाव और मिशन-2024 की रणनीति पर भी चर्चा होगी।

समुदाय विशेष को गुमराह होने से बचाना है – मायावती

आजमगढ़ रिजल्ट आने पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहाकि, सिर्फ आजमगढ़ ही नहीं, बल्कि बसपा को पूरे यूपी में 2024 लोकसभा चुनाव के लिए संघर्ष व प्रयास लगातार जारी रखना है। इसी क्रम में एक समुदाय विशेष को चुनावों में गुमराह होने से बचाना भी बहुत जरूरी है।

 

Check Also

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बादलों की आवाजाही के साथ धूल भरी आंधी की संभावना, पढ़ें मौसम का ताज़ा अपडेट

कानपुर (हि.स.)। मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि मौसमी सिस्टम की वजह से पश्चिमी उत्तर ...