Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / यूपी टीईटी 2021 : परीक्षा में शामिल होने से पहले पढ़ लें ये जरूरी नियम और जानकारियां

यूपी टीईटी 2021 : परीक्षा में शामिल होने से पहले पढ़ लें ये जरूरी नियम और जानकारियां

Luknow News : शिक्षक भर्ती के जरूरी उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी) 2021 की परीक्षा 28 नवंबर को होगी। टीईटी की यह परीक्षा दो पालियों में होगी। यूपी टीईटी की इस परीक्षा का पहली बार लाइव सर्विलांस होगा। सीसीटीवी के जरिए प्रदेश के परीक्षा केंद्रों की सभी गतिविधियों की निगरानी सर्विलेंस कंट्रोल रूम से होगी। ठीक वैसे जैसे उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की प्रारंभिक अर्हता परीक्षा में किया गया था। राज्य परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने प्रदेश के सभी 75 जिलों में परीक्षा केंद्र बनाए हैं।

यूपी टीईटी की परीक्षा की निगरानी के लिए स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) और एलआईयू को भी लगाया गया है। परीक्षा केंद्र पर केंद्र व्यवस्थापक, नामित पर्यवेक्षक एवं स्टैटिक मजिस्ट्रेट को भी कैमरा युक्त मोबाइल या स्मार्टफोन ले जाने की अनुमति नहीं है। परीक्षा शुरू होने के एक घंटे के पहले प्रश्न पुस्तिकाओं के पैकेट खोले जाएंगे। प्रश्न पुस्तिकाओं के पैकेट खोलने और परीक्षा के बाद उसकी सीलिंग (पैकिंग) की वीडियोग्राफी कराकर उसकी सीडी भेजी जाएगी।

यूपीटीईटी 28 नवंबर को सभी 75 जिलों में दो पालियों में होगी। 10 से 12:30 बजे की पहली पाली में प्राथमिक स्तर की परीक्षा में पंजीकृत 12,91,628 अभ्यर्थियों के लिए 2554 केंद्र बनाए गए हैं। जबकि दूसरी पाली 2:30 से 5 बजे तक में उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा में पंजीकृत 8,73,553 अभ्यर्थियों के लिए 1747 केंद्र बनाए गये हैं। परीक्षा शुरू होने के आधा घंटा पहले परीक्षा केंद्र में प्रवेश दिया जाएगा। ओएमआर शीट पर किसी अशुद्धि के लिए व्हाइटनर का प्रयोग नहीं करना है। ऐसा होने पर ओएमआर शीट निरस्त कर दी जाएगी।

बता दें कि, उत्तर प्रदेश परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव संजय कुमार उपाध्याय के अनुसार यूपीटीईटी 2021 की परीक्षा पहली पाली में सुबह 10 बजे से दोपहर 12:30 बजे तक प्राथमिक स्तर की परीक्षा होगी। जबकि दूसरी पाली की दोपहर 2:30 से 5 बजे तक की परीक्षा में उच्च प्राथमिक स्तर के अभ्यर्थी शामिल होंगे। अभ्यर्थियों को परीक्षा प्रवेश पत्र के साथ फोटोयुक्त पहचान पत्र की मूल प्रति लाना होगा। इसके अलावा उन्हें प्रशिक्षण योग्यता का मूल प्रमाण पत्र अथवा किसी भी सेमेस्टर के निर्गत अंक पत्र की मूल प्रति अथवा संबंधित प्रशिक्षण संस्था के प्राचार्य या सक्षम अधिकारी द्वारा इंटरनेट से प्राप्त अंक प्रत्र की प्रमाणित प्रति जरूरी है। इसके बिना अभ्यर्थी को परीक्षा केंद्र में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

यूपी टीईटी की लिखित परीक्षा के बाद दो दिसंबर को आंसर की जारी की जाएगी। इस पर परीक्षार्थियों से आपत्तियां छः दिसंबर तक ली जायेंगी।  आपत्तियों के निस्तारण के लिए विषय विशेषज्ञों से जांच कराने के बाद 24 दिसंबर तक फाइनल आंसर-की जारी होगी। उसके बाद यूपीटीईटी रिजल्ट 28 दिसम्बर को जारी होगा।

Check Also

सीतापुर : कोविड लक्षणयुक्त व टीकाकरण से वंचित बुजुर्गों की पहचान के लिए 24 से चलेगा अभियान

सीतापुर। कोविड के प्रति जनजागरूकता व संवेदीकरण के साथ ही कोविड के लक्षणयुक्त व्यक्तियों व ...