मुरादाबाद मंडल में 2017 की तुलना में इस बार साइकिल और तेज रफ्तार से दौड़ी, पढ़िए पूरी खबर

– सपा को वर्ष 2017 में 12 सीटें, वर्ष 2022 में 17 सीटें मिली, वहीं भाजपा को वर्ष 2017 में 15 सीटें और 2022 में सिर्फ 10 सीटें मिली

मुरादाबाद । उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 का चुनाव परिणाम घोषित हुआ। जिसके बाद उत्तर प्रदेश में भाजपा गठबंधन के खाते में 273 सीटें आईं व सपा गठबंधन को 125 सीटें मिली। लेकिन मुरादाबाद मंडल सपा के विधायकों की संख्या पिछली बार की अपेक्षा बढ़ गई। वर्ष 2017 में सम्पन्न हुए उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तुलना में इस बार समाजवादी पार्टी की साइकिल और तेज रफ्तार के साथ दौड़ी। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में सपा की साइकिल 12 सीटों पर चली थी वहीं 2022 के चुनाव में 17 सीटें सपा के खाते में गई। वर्ष 2017 में भाजपा को 15 सीटें और 2022 भाजपा को 10 सीटें मिली हैं। इस बार मुरादाबाद मंडल की 5 सीटें सपा के खाते में और बढ़ गई।

मुरादाबाद मंडल के 5 जिलों में 27 विधानसभा की सीटें हैं। मुरादाबाद जिले में 6 विधानसभा सीट, बिजनौर जिले में 8, अमरोहा जिले में 4, संभल में 4 और रामपुर जिले में 5 विधानसभा की सीटें हैं। मुरादाबाद में इस बार सपा को 5 सीटें, भाजपा को 1 सीट, बिजनौर में सपा-भाजपा को 4-4 सीट, अमरोहा में सपा-भाजपा को 2-2 सीट, रामपुर में सपा को 3 सीट व भाजपा को 2 सीट और संभल में सपा को 3 सीटें भाजपा को 1 सीट मिली हैं।

समाजवादी पार्टी ने मंडल की सभी 27 विधानसभा सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े किए थे, जबकि भारतीय जनता पार्टी ने 26 विधानसभा सीटों पर प्रत्याशी उतारे एक सीट गठबंधन के दल अपना दल को दी गई थी। इस बार के चुनाव में मुरादाबाद, संभल, अमरोहा में सपा की कुल 3 सीटें और बिजनौर में सपा की 2 सीटें बढ़ गई।

मुरादाबाद जिले की सिर्फ मुरादाबाद नगर विधानसभा में भाजपा प्रत्याशी रितेश कुमार गुप्ता पुन: चुनाव जीते। वहीं मुरादाबाद देहात में सपा के हाजी नासिर, कांठ में सपा के कमाल अख्तर, ठाकुरद्वारा में सपा के नवाब जान, बिलारी में सपा के मोहम्मद फहीम और कुंदरकी विधानसभा में सपा के जियाउर्रहमान चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे हैं। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में भाजपा के खाते में मुरादाबाद नगर विधानसभा के साथ कांठ विधानसभा सीट भी आई थी, अन्य चारों सीटें सपा के खाते में गई थी। वहीं इस बार सपा के खाते में वर्ष 2017 की तरह चारों सीटें इस बार भी रही और कांठ सपा प्रत्याशी ने भाजपा के मौजूदा विधायक व वर्तमान प्रत्याशी से सीट छीन ली।

बिजनौर जिले की 6 विधानसभा सीटों में बिजनौर सीट पर भाजपा की सूची मौसम चौधरी, बढ़ापुर से भाजपा के सुशांत सिंह, धामपुर से भाजपा के अशोक राणा और नहटौर सीट पर भाजपा के ओम कुमार वर्ष 2017 की तरह एक बार फिर से विजयी हुए हैं। बिजनौर की नगीना विधानसभा सीट पर सपा प्रत्याशी मनोज पारस व नजीबाबाद सीट पर सपा प्रत्याशी तस्लीम अहमद इस बार फिर से विजयी हुए हैं। इनके अलावा बिजनौर की चांदपुर सीट सपा प्रत्याशी स्वामी ओम ओवैस ने भाजपा प्रत्याशी व मौजूदा विधायक कमलेश सैनी को हरा दिया और नूरपुर सीट पर सपा के राम अवतार विजयी हुए हैं।

अमरोहा जिले में अमरोहा सीट पर सपा प्रत्याशी महबूब अली और नौगांवा सादात विधानसभा सीट पर सपा के समरपाल सिंह ने विजय हासिल की हैं। वहीं हसनपुर विधानसभा में भाजपा प्रत्याशी महेंद्र खड़गवंशी और धनोरा सीट पर भाजपा प्रत्याशी राजीव तरारा एक बार फिर से चुनाव जीते हैं।

संभल जिले की संभल विधानसभा सीट पर प्रत्याशी इकबाल महमूद और असमोली विधानसभा सीट पर सपा प्रत्याशी पिंकी यादव ने इस बार भी जीत दर्ज की वही गुन्नौर सीट पर इस बार सपा प्रत्याशी रामखिलाड़ी यादव ने भाजपा प्रत्याशी व मौजूदा विधायक अजीत यादव राजू को हराया है। चंदौसी विधानसभा पर इस बार भी भाजपा प्रत्याशी मौजूदा सरकार में मंत्री गुलाब देवी विजयी हुई हैं।

रामपुर में रामपुर विधानसभा सीट पर जेल में बंद पूर्व मंत्री व सांसद सपा प्रत्याशी मो. आजम खान ने चुनाव जीता है। आजम खान के अलावा उनके पुत्र व सपा प्रत्याशी अब्दुल्ला आजम और चमरौआ सीट पर सपा प्रत्याशी नसीर अहमद भी इस बार फिर से चुनाव जीत गए हैं। वहीं रामपुर जनपद में भाजपा के खाते में वर्ष 2017 की तरह बिलासपुर और मिलक की सीट आई हैं। जिसमें बिलासपुर से भाजपा प्रत्याशी बलदेव सिंह औलख और मिलक सीट से प्रत्याशी राजबाला चुनाव जीती हैं।