महादेवी वर्मा की जन्मस्थली पर छिड़ी चुनावी जंग, कहीं कांग्रेस-भाजपा में टक्कर तो कहीं…

फर्रुखाबाद । महीयसी महादेवी वर्मा की जन्म स्थली पर छिड़े चुनावी घमासान में सभी उम्मीदवार मतदाताओं को रिझाने में जुटे हुए है। जिले की सभी विधान सभाओं में चुनावी आईना धीरे धीरे साफ होने लगा है। मौजूदा समय में उत्पन्न हुए चुनावी समीकरण सदर विधान सभा में भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर की ओर संकेत कर रहे है।जबकि अमृतपुर विधान सभा क्षेत्र में सपा भाजपा में कांटे की लड़ाई छिड़ी हुई है। कमालगंज विधान सभा क्षेत्र साइकिल की हवा निकल गई है। कायमगंज में अभी तक चुनावी आईना साफ नही हुआ है।

सदर विधान सभा सीट पर छिड़े चुनावी घमासान में भाजपा के मेजर सुनीलदत्त द्विवेदी ओर कांग्रेस उमीदवार लुईस खुर्शीद के बीच सीधी टक्कर हो गई है। यहां भाजपा उम्मीदवार मेजर सुनील दत्त द्विवेदी को हर जाति का समर्थन मिल रहा है। कांग्रेस उम्मीदवार लुईस खुर्शीद सपा के वोटो में सेंध मारी कर भाजपा को सीधी टक्कर दे रही है। सपा उम्मीदवार सुमन मौर्य ओर बसपा उम्मीदवार विजय कटियार तीसरे और चौथे स्थान पर रह कर मतदाताओं को रिझाते देखे जा रहे है। कुल मिला कर सभी दलों ने चुनाव प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी है।

अमृतपुर विधान सभा क्षेत्र में भाजपा और सपा के बीच लड़ाई होने के पूरे आसार बन गए हैं। भाजपा उम्मीदवार सुशील कुमार शाक्य ओर सपा के डाक्टर जितेंद्र सिंह यादव के बीच सीधी जंग छिड़ी हुई है। डॉक्टर जितेंद्र सिंह यादव की पकड़ काफी मजबूत नजर आ रही है। इस विधान सभा क्षेत्र में साइकिल तेजी से दौड़ने लगी है। निर्दल उम्मीदवार नरेंद्र सिंह यादव भी चुनाव प्रचार में रात दिन एक किये हुए है। बसपा के राहुल कुशवाह का हाथी भी पूरी विधान सभा में चिन्हार उठा है। सबसे खास बात यह है कि बसपा समर्थित मतदाता श्री कुशवाह के पक्ष में अडिग है। जिनमें कोई भी दल सेंधमारी नहीं कर पा रहा है।इस विधान सभा क्षेत्र में कांग्रेस उम्मीदवार की हालत दयनीय बनी हुई है।

भोजपुर विधान सभा क्षेत्र में भाजपा उम्मीदवार नागेन्द्र सिंह राठौर को हर जाति वर्ग का समर्थन मिल रहा है। जिससे यहां हर जगह कमल खिलता नजर आ रहा है। सपा के उम्मीदवार अरशद जमाल ओवर कांफिडेंस में चले गए है। वह मौसमी नेताओ के कोरे आश्वासन की वजह दिग भर्मित हो गए है। जिससे साइकिल की चाल धीमी हो गई है। बसपा के अलोक वर्मा ओर कांग्रेस की अर्चना राठौर एक दूसरे के मतों का नुकसान पहुंचा रहे हैं। इस विधान सभा क्षेत्र में सभी हिन्दू मतदाताओं का ध्रुवी करण हो जाने से भाजपा उम्मीदवार की हालत सबल बनी हुई है।

चुनावी चकल्लस वाले लोगों की बातों में आकर सपा उम्मीदवार जीत के सपनों में खो गए हैं। अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित कायमगंज विधान सभा क्षेत्र में सपा के सर्वेश अम्बेडकर ओर भाजपा समर्थित उम्मीदवार डॉक्टर सुरभि तथा बसपा व कांग्रेस उम्मीदवार के बीच चतुर्थ कोणीय संघर्ष छिड़ा हुआ है। इस विधान सभा क्षेत्र का चुनावी आईना अभी पूरी तरह से धुंधला नजर आ रहा है।