Breaking News
Home / Slider News / भोपाल में आतंकियों की मौजूदगी की एसआईंटी करेगी जांच, चारों आंतकी 28 तक पुलिस रिमांड पर

भोपाल में आतंकियों की मौजूदगी की एसआईंटी करेगी जांच, चारों आंतकी 28 तक पुलिस रिमांड पर

– 3 बंगलादेश और एक बिहार के रहने वाले, कोर्ट को बताया बांटी थी आपत्तिजनक सामग्री

भोपाल (ईएमएस)। भोपाल के ऐशबाग और करोंद इलाके से पकड़े गए चार आतंकियों को लेकर सरकार ने प्रदेश में अलर्ट जारी किया है। सभी थानों को सतर्क रहने और संदिग्ध लोगों की पहचान एवं पूछताछ कर जानकारी इकठ्ठी करने को कहा है। राज्य सरकार इसकी विस्तृत जांच के लिए एसआईटी गठित कर रही है। चार में से तीन आरोपितों ने स्वीकार कर लिया है कि वे बांग्लादेश से हैं। उधर जमात-ए-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश के गिरफ्तार चार आंतकियों को सोमवार को स्पेशल कोर्ट में पेश किया गया, जहां से चारों आंतकियों को 14 दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है। पुलिस रिमांड में कई तरह के खुलासे होने की उम्मीद है। प्रदेश के कई शहरों से आतंकियों के तार जुड़े है।

बता दें कि जमात-ए-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश के चार आतंकियों को एटीएस ने गिरफ्तार किया था। सोमवार को स्पेशल कोर्ट में पेश करने के पहले विभिन्न प्रक्रिया अपनाई गई। सेफ हाउस पर चारों आतंकियों का मेडिकल परीक्षण किया गया। 1250 से डॉक्टर अग्रवाल को मेडिकल के लिए ले जाया गया। मेडिकल और तमाम प्रोसेस के बाद कोर्ट में पेश किया गया। स्पेशल कोर्ट ने चारों को 14 दिन की पुलिस रिमांड पर सौंप दिया है। स्पेशल कोर्ट ने आंतकियों ने बताया कि राजधानी के निशातपुरा इलाके में भी आपत्तिजनक सामग्री बांटी थी। कोर्ट के अंदर आरोपियों ने जज के सामने यह बात बताई। गिरफ्तार आंतकियों में तीन आतंकी बांग्लादेश के रहने वाले और एक आतंकी बिहार के किसी शहर का रहने वाला है। सुरक्षागत कारणों से उसके शहर का खुलासा पुलिस ने नहीं किया है। आरोपियों ने बताया कि उत्तर प्रदेश के सहारनपुर से फर्जी दस्तावेज तैयार किये थे। इनमें वोटर आईडी, पेन कार्ड आदि फर्जी बनवाए थे। चारों आतंकियों को बांग्लादेश की उस बॉर्डर पर भी ले जाया जाएगा जहां से ये भारत में इंटर हुए थे।

मकान दिलवाने वाले से भी हो रही पूछताछ

ऐशबाग में मकान दिलवाने वाले मैकेनिक सलमान से भी एटीएस द्वारा पूछताछ की जा रही है। बताया जाता है कि एटीएस को सलमान के भी जेएमबी की गतिविधियों में मदद करने का अंदेशा है। उससे यह जानकारी ली जा रही है कि वह दोनों आतंकियों के संपर्क में कहां और कैसे आया। सूत्रों के मुताबिक भोपाल में स्लीपर सेल तैयार करने में जुटे चारों आतंकियों ने भीड़भाड़ वाला इलाका और घनी बस्ती सिर्फ इसलिए चुनी थी, ताकि उन पर कोई शक न करे।

बड़ी फंडिंग होती रही है
जेएमबी द्वारा अपनी विचारधारा से युवाओं को जोडऩे के लिए इन चारों बांग्लादेशियों को भेजा गया था लेकिन उनके साथ आने के लिए अब तक कोई आगे नहीं आया। इस बात से यह चारों आतंकी परेशान थे। आतंकियों से जब्त किए गए लैपटाप और टैबलेट से यह साफ हो रहा है कि उन्हें बड़ी फंडिंग की जाती रही है, जो पूछताछ का अहम हिस्सा है। एटीएस यह भी जानकारी जुटा रही है कि मध्य प्रदेश के किन-किन शहरों में इनके लोग मौजूद हैं। अन्य राज्यों की पुलिस से इन आतंकियों की जानकारी साझा कर सुराग एकत्र किए जा रहे हैं।

विदिशा के हैदरगढ़ का शहवान भी हिरासत में
ऐशबाग के अलावा करोंद के जनता क्वार्टर इलाके में खातिजा मस्जिद के पास एक मंजिल के मकान में रह रहे संदिग्ध आतंकी को भी गिरफ्तार किया गया। शहवान नाम का यह युवक विदिशा के हैदरगढ़ का रहने वाला बताया जा रहा है। हालांकि पुलिस ने इसकी पुष्टि नहीं की है। हैदरगढ़ में शहवान का परिवार मस्जिद के पास रहता है। उसके पिता खेती करते हैं। मोहल्ले के लोगों ने बताया कि पुलिस द्वारा शहवान को ले जाने की खबर मिलते ही पूरा परिवार भोपाल रवाना हो गया है। रविवार को दिनभर उनके घर पर ताला लगा हुआ था। शहवान के स्वजनों के मोबाइल फोन भी बंद थे। शहवान ने भोपाल में रहकर पढ़ाई की और मदरसे में आलिम बन गया।

Check Also

Report : 10 महीने से पृथ्वी के तापमान की रिकॉर्ड वृद्धि दर्ज, सबसे गर्म महीना बना…

वाशिंगटन (ईएमएस)। ताजा आंकड़ों से पता चला है कि बीता मार्च महीना धरती के अब ...