बाराबंकी : अपनी पहचान को तरस रहा है सी एच सी कोठी, जानिए क्या है पूरा मामला

0
796

कोठी बाराबंकी।एक तरफ जहां राज्य व केंद्र सरकार स्वास्थ्य विभाग के सरकारी अस्पतालों में रख-रखाव, और बैनर पर लाखों रुपए खर्च कर रही हो लेकिन यहां तैनात सीएचसी अधीक्षकों की मनमानी के चलते ऐसा संभव नहीं है जिसका एक उदाहरण स्वास्थ्य सामुदायिक केंद्र कोठी पर देखा जा रहा है जहां पर कई हजार रुपए के भुगतान के उपरांत भी मुख्य गेट का बोर्ड नदारद है वह अपनी पहचान के लिए मोहताज है इतना ही नहीं हैदरगढ़ बाराबंकी मुख्य मार्ग पर होने से यहां से प्रतिदिन प्रशासनिक अधिकारियों का आवागमन भी रहता है। इसके अभाव में मरीज व तमीरदार भटक भटक कर आस-पास के लोगों से पूछ कर वह अस्पताल पहुंचते हैं जबकि अधिकारियों का दावा है कि बोर्ड आंधी में क्षतिग्रस्त कई माह पहले हो गया था.

प्राप्त जानकारी के अनुसार हैदरगढ़ बाराबंकी मार्ग स्वास्थ्य समुदायिक केंद्र कोठी का है जहां पर लगभग कई महीनों से मुख्य गेट पर लगाने वाला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कोठी का बोर्ड या बैनर नदारद दिखाई पड़ता है लोगों को अस्पताल में पहुंचने में काफी दिक्कतें हैं वह भटकते हुए स्थानीय लोगों व दुकानदारों से पूछ के अस्पताल पहुंच कर इलाज करवाते हैं जबकि विभाग से अस्पतालों के मेंटेनेंस के लिए बीते वित्तीय वर्षों में लाखों रुपए की धनराशि मुहैया हो चुकी है ऐसे में सीएचसी कोठी की जर्जर हालत पर लोग चर्चा करते हैं क्योंकि अस्पताल परिसर में जंग ग्लूकोस स्टैंड व फटे पुराने गद्दारों का इस्तेमाल मरीजों के लिए किया जाता है उक्त सीएचसी के हैदरगढ़ मुख्य मार्ग पर होने से यहां से अक्सर अन्य विभागीय अधिकारियों का आवागमन बना रहता है लेकिन इन अधिकारियों की नजरें यहां पर नहीं पड़ती।

इस संबंध में जब सीएचसी अधीक्षक डॉ अश्वनी सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कई दिन पहले तेज आंधी के चलते बोर्ड फट गया था नया बोर्ड लगवाने के लिए बनवाया जा रहा है आते ही शीघ्र लगवा दिया जाएगा।