बहराइच : राशन के साथ-साथ विभिन्न सेवाएं भी उपलब्ध करायेंगे उचित दर विक्रेता

0
501

अलादीन का चिराग बनेगी उचित दर की दुकाने

बहराइच। उचित दर दुकानदारों की आर्थिक आय में वृद्धि करने के उद्देश्य से उचित दर विक्रेताओं द्वारा उपयोग में लायी जा रही ई-पॉस मशीन के माध्यम से सी.एस.सी. सेवाओं तथा राशनकार्ड सेवाओं के लिये उचित दर दुकानों को जन सेवा केन्द्रों के रूप में सक्षम बनाये जाने का निर्णय शासन द्वारा लिया गया है।

यह जानकारी देते हुए जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र ने बताया कि राशन की दुकानों के माध्यम से आमजनमानस को पीएम कल्याण योजनान्तर्गत आयुष्मान भारत योजना, पीएम फसल बीमा योजना, उज्ज्वला कनेक्शन व एल.पी.जी. बुकिंग, पीएम श्रम योगी मान धन पेंशन योजना, पीएम किसान मानधन योजना, व्यापारियों के लिए पीएम मर्चेन्ट पेंशन योजना, पीएम किसान सम्मान निधि योजना, पीएम किसान क्रेडिट कार्ड व पीएम स्ट्रीट वेन्डर आत्मनिर्भर निधि, शैक्षणिक सेवाएं यथा शिक्षा सेवाएं-डिजिटल साक्षरता, टेली-कानूनी परामर्श सेवायें, टेली-सेन्टर उद्यमिता, ई-कोर्ट सेवाए व शिक्षा सेवा अन्य शैक्षिक सेवायें, टूर्स एण्ड ट्रेवल्स अन्तर्गत टुअर्स एण्ड ट्रेवल्स सिविल अनुरोध व टुअर्स एण्ड ट्रेवल्स अन्य सेवायें, उपयोगिता बिल भुगतान अन्तर्गत भारत बिल भुगतान प्रणाली, बिजली व जल बिल भुगतान तथा स्वास्थ्य देखभाल के तहत स्वास्थ्य देखभाल सेवायें-मानव व स्वास्थ्य देखभाल सेवायें-स्ट्रीट स्वाभिमन इत्यादि सेवायें उपलब्ध रहेगी।

इसी प्रकार इन्य केन्द्रीय सेवाओं अन्तर्गत चुनाव आयोग सेवायें, पासपोर्ट व पैन आवेदन, स्वच्छ भारत अभियान, जीवन प्रमाण व डिजी पे, कौशल विकास के तहत कौशल विकास योजना और पाठ्यक्रम व कौशल विकास नौकरी, राज्य जी2सी अन्तर्गत ई-जिला सेवायें, श्रम पंजीकरण सेवायें, ई-वाहन-सारथी परिवहन सेवायें, हिमाचल स्वास्थ्य बीमा योजना व अन्य राज्य जी2सी सेवायें, अन्य बी2सी/बी2बी सेवाओं अन्तर्गत ग्रामीण ई-स्टोर, उत्पाद वितरण, कृषि सेवायें, मोबाईल/डीटीएच रिचार्ज, आई.टी. रिटर्न भरना व एल.ई.डी. माईक्रों मैन्युफैक्चरिंग यूनित, स्थानीय ई-कामर्स के तहत सी.एस.सी. ई ग्रामीण स्टोर इत्यादि सेवायें उपलब्ध होंगी।

इसके अलावा वित्तीय समावेशन सेवाओं के तहत बैंक मि़त्र, एस.बी.आई., एच.डी.एफ.सी., आई.सी.आई.सी.आई, एक्सिस, एन.पी.एस. और ए.पी.आई., आर.आर.बी., डिजिपे, बीमा सेवायें, क्रेडित जानकारी सिविल अनुरोध, फास्टैग सेवायें, डिजीनेम के साथ-साथ वित्तीय समावेशन के तहत बैंकिंग सेवायें-समेकित स्थिति इत्यादि से सम्बन्धित सेवाएं भी उपलब्ध रहेंगी।