Breaking News
Home / अपराध / बरेली : तीन पशु तस्कर गिरफ्तार, बाइक डिलीवरी की आड़ में करते थे पशु तस्करी

बरेली : तीन पशु तस्कर गिरफ्तार, बाइक डिलीवरी की आड़ में करते थे पशु तस्करी

बरेली के सीबीगंज पुलिस ने झुमका तिराहे पर चेेकिंग के दौरान कंटेनर सवार तीन पशु तस्करों को धर दबोचा। तीनो तस्कर कंटेनर के अंदर 21 गोवंशीय पशु लादकर कटान के लिए पश्चिम बंगाल लेकर जा रहे थे। पुलिस ने तीनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है। तीनों को आज जेल भेजा जाएग। पुलिस ने कंटेनर भी सीज कर दिया है।

गिरफ्तार किए गए पशु तस्कर

बाइक डिलीवरी की आड़ में करते थे पशु तस्करी

सीबीगंज पुलिस मंगलवार को वाहनों की चेकिंग कर रही थी। मंगलवार को किसी ने पुलिस को सूचना दी कि एक कंटेनर एक कंपनी की बाइक डिलीवरी की आड़ में पशु तस्करी कर रहा है। भनक लगते ही पुलिस ने घेराबंदी कर झुमका तिराहे पर कंटेनर को रुकने का इशारा किया लेकिन चालक ने वाहन नहीं रोका। पुलिस ने पीछा कर कंटेनर रोका तो तीन लोग सवार थे। पूछने पर बताया कि ट्रक में एक कंपनी की बाइक है। जिसे पश्चिम बंगाल में डिलीवर करना है। उसी दौरान पुलिस कंटेनर चेक करने पहुंची तो कंटेनर से गोबर की बदबू आ रही थी। पुलिस ने जब जबरन कंटेनर खुलवाया तो उसमें 21 गोवंशीय पशु मिले। जिसके बाद पुलिस सभी को थाने लेकर आई और पूछतार की तो तीनों तस्करों ने अपना नाम मेजर सिंह पुत्र कुंदन सिंह ,अकील पुत्र शब्बीर निवासी पीपलसाना थाना भोजपुर जिला मुरादाबाद व अयूब पुत्र तोतिया निवासी फरौदा जिला मेरठ बताया। पुलिस ने तीनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कंटेनर सीज कर दिया। उसके बाद सभी पशुओं को कान्हा उपवन भेज दिया ।

20 बार से अधिक बार तस्करी, पुलिस को नहीं थी भनक

पूछताछ के दौरान आरोपितों ने बताया कि वह कई सालों से पशु तस्करी करते आ रहे हेँ। जहां उन्हें वाहनों की चेकिंग दिखाई पड़ती वह उससे पहले ही वाहन साइड लगाकर खड़ी कर चले जाते थे। जब पुलिस सड़क से हटती थी उसके बाद वाहन आगे निकालते थे। अब तक वह 20 से अधिक बार पशुओं की तस्करी पश्चिम बंगाल कर चुके हैं। हालांकि यूपी, बिहार, झारखंड के साथ पश्चिम बंगाल के बार्डर इलाकों में सेटिंग से वाहन पास हो जाते थे। इस दौरान मोटी रकम बार्डर पर दी जाती थी। आश्चर्य की बात तो यह है कि इस तस्करी की भनक आज तक पुलिस को नहीं थी।

मेडिकल इंस्टिट्यूट के वाहन का नंबर लिखा था ट्रक पर

पुलिस ने चालक से जब ट्रक का कागज मांगा तो वह इधर-उधर की बातें करने लगा। पुलिस को बताया कि कंटेनर उनका ही है। पुलिस ने जब ऑनलाइन चेक किया तो ट्रक पर जो नंबर पड़ा था वह पंजाब के एक मेडिकल इंस्टिट्यूट का निकला। पुलिस ने सख्ती की ताे बताया कि वह फर्जी नंबर प्लेट के आधार पर पशु तस्करी को अंजाम दे रहे थे। ssp रोहित सिंह सजवाण ने बताया कि तीनों तस्करों पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। बुधवार को जेल भेजा जाएगा।

Check Also

विधानसभा चुनाव : पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अपने ही बुने जाल फंस रही सपा, जानें पूरा मामला

– सपा-रालोद की 29 प्रत्याशियों की पहली लिस्ट में 9 मुस्लिमों के नाम से जाटों ...