बड़ी कामयाबी : गोरखपुर के STF के हत्थे चढ़ा साल्वर गैग, ऐसे कराते थे नकल

0
14

गोरखपुर STF को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। STF ने उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड की ओर से आयोजित उपनिरीक्षक नागरिक पुलिस एवं समकक्ष पदों की सीधी भर्ती आनलाइन परीक्षा-2021 में फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है। STF ने इस गैंग का पर्दाफाश करते हुए देवरिया बाइपास तिराहे के पास से 3 आरोपितों को गिरफ्तार किया है।

यह तीनों NSEIT के परीक्षा केंद्र या लैब में अभ्यार्थियों से रुपए एठकर उन्हें नकल कराने की तैयारी कर रहे थे। टीम ने उनके पास से 61 सौ रुपए कैश सहित 3 मोबाइल फोन, आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड और पैनकार्ड भी बरामद किया है। STF ने तीनों के खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें रामगढ़ताल थाने में दाखिल कर दिया।

शहर के कई केंद्र थे नकल में शामिल
दरअसल, STF को उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड की ओर से आयोजित उपनिरीक्षक नागरिक पुलिस एवं समकक्ष पदोंकी सीधी भर्ती आनलाइन परीक्षा-2021 एवं अन्य आनलाइन परीक्षा में धांधली/फर्जीवाड़ा करने वाले गिरोह के संबंध में सूचनाएं मिल रहीं थी। इसे लेकर गोरखपुर STF की टीम एक्टिव हो गई। इस बीच सूचना मिली कि अश्वनी दूबे केंद्र संचालक, माडेंटो वेन्चर्स प्राइवेट लिमिटेड, अनुभव सिंह, क्लस्टर हेड NSEIT गोरखपुर, आशीष शुक्ला, केंद्र संचालक कैवेलियर एनीमेशन सेंटर NSEIT गोरखपुर, दीपक, दिवाकर उर्फ रिन्टू एवं सेनापति, केन्द्र संचालक सिद्धि विनायक आनलाइन सेंटर गोरखपुर, नित्यानन्द गौड़, संतोष यादव, रजनीश दिक्षित, केन्द्र संचालक ओम आनलाइन सेन्टर मिलकर नकल कराने की योजना बना रहे हैं।

देवरिया बाइपास से दबोचा गया गैंग
इस बीच टीम को यह भी सूचना मिली कि यह लोग देवरिया बाइपास मोड़ पर कुछ अभ्यार्थियों से मिलकर रुपए लेने वाले हैं। सूचना पर इंस्पेक्टर STF सत्य प्रकाश सिंह के नेतृत्व में सब इंस्पेक्टर आलोक कुमार राय, हेड कांस्टेबल जितेन्द्र यादव, महेंद्र प्रताप सिंह सहित टीम के अन्य सदस्यों ने घेराबंदी शुरू कर दी। इस बीच STF ने मुखबिर की सूचना पर तीनों को को हिरासत में ले लिया। तलाशी के दौरान उनके पास से टीम ने 61 सौ रुपए कैश सहित 3 मोबाइल फोन, आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड और पैनकार्ड भी बरामद किया।

अलग कमरे में बैठाकर कराते थे नकल
पूछताछ के दौरान आरोपितों की पहचान अनुभव सिंह निवासी-शिवपुर सहबाजगंज, गुलरिहा गोरखपुर, नित्यानन्द गौड़ निवासी-अहिरौली, घुघुली, महराजगंज और सेनापति साहनी महेसरा, चिलुआताल गोरखपुर के रुप में हुई। पूछताछ के दौरान आरोपितों ने STF को बताया कि यह लोग अभ्यार्थियों से रुपए वसूल कर उन्हें परीक्षा के दौरान परीक्षा केंद्र के लैब या फिर अलग कमरे में बैठाकर नकल कराते हैं।

जिनसे इनकी पहले से सेटिंग हो जाती यह सुविधा उन्हीं परीक्षार्थियों को दी जाती है। इंस्पेक्टर STF सत्यप्रकाश सिंह ने बताया कि पकड़े गए आरोपितों से पूछताछ में मिली जानकारी के आधार पर जल्द ही इस गैंग से जुड़े अन्य सदस्यों को भी पकड़ लिया जाएगा।