नोएडा : यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे बसेगी हेरिटेज सिटी, पुरानी संस्कृति की दिखेगी झलक

0
75

– ,अमेरिकी कम्पनी बनाएगी डीपीआर

नोएडा। यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे राया (मथुरा) में हेरिटेज सिटी बनाये जाने का रास्ता साफ हो गया है। इस सिटी में पुरानी संस्कृति की झलक होगी। हेरिटेज सिटी (नया वृंदावन) की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) अमेरिकी कंपनी सीबीआरई बनाएगी।जिसका चयन हो गया है। यह कंपनी हेरिटेज की सिटी की दो महीने में डीपीआर बनाएगी साथ ही डीपीआर में वित्तीय और विकास के माडल भी सुझाएगी।
प्रदेश सरकार ने इसके मास्टर प्लान को पहले ही हरी झंडी दे दी है। इसकी डीपीआर बनाने के लिए कंपनी का चयन करने के लिए यमुना प्राधिकरण ने 26 नवंबर को टेंडर निकाला था। डीपीआर बनाने के लिए एलईए एसोसिएट्स साउथ एशिया प्राइवेट लिमटेड, प्राइस वाटर हाउस कूपर्स प्राइवेट लिमटेड, टाटा कंसलटिंग इंजीनियर्स लिमिटेड, सीबीआरई साउथ एशिया प्राइवेट लिमिटेड, वाप्कोस लिमिटेड व रुद्राभिषेक इंटरप्राइजेज ने रुचि दिखाई थी।

यमुना प्राधिकरण ने कंपनी का चयन कर लिया। राया सिटी की डीपीआर के काम का जिम्मा सीबीआरई साउथ एशिया प्राइवेट लिमिटेड को दिया गया है। यह कंपनी दो महीने में अपनी रिपोर्ट सौंप देगी।

यमुना एक्सप्रेस वे के किनारे नया शहर बसाया जाएगा। नए शहर में पर्यटन, रिवर फ्रंट समेत तमाम तरह के भू उपयोग की उपलब्धता रहेगी। नए शहर में ब्रज की पुरानी संस्कृति को दिखाया जाएगा। यहां पुरानी हाट, ऋषि-मुनियों के आश्रम, म्यूजियम, मिनिएचर और गांव व वनों को बनाया जाएगा। नए शहर में औद्योगिक, आवासीय, horloges replica रीक्रिएशनल ग्रीन, ट्रांसपोर्ट, पर्यटन जोन, ग्रामीण आबादी, व्यावसायिक, मिश्रित उपयोग, ऑफिसेज, रीवर फ्रंट, वाटर बॉडी आदि के लिए जगह तय कर दी गई है।

यमुना एक्सप्रेस वे के किनारे राया (मथुरा) के पास 9,350 हेक्टेयर में नया वृंदावन शहर बसाया जाएगा। नए शहर में पर्यटन पर जोर होगा। पहले चरण में पयर्टन जोन ही विकसित किया जाएगा। 731 हेक्टेयर पर पर्यटन जोन और 110 हेक्टेयर में रिवर फ्रंट विकसित किया जाएगा।

इस तरह से होगा भू उपयोग –

श्रेणी उपयोग प्रतिशत में
आवासीय 16.9
व्यावसायिक 4.7
पर्यटन जोन 7.8
रिवर फ्रंट 1.2
वाटर बॉडी 1.1
ट्रांसपोर्ट 14.9
मिश्रित उपयोग 2.5
औद्योगिक 20.1

हेरिटेज सिटी राया की डीपीआर बनाने के लिए कंपनी का चयन हो गया है। सीबीआरआई राया सिटी की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाएगी। रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।
– डॉ. अरुणवीर सिंह, सीईओ यमुना प्राधिकर न