Breaking News
Home / अपराध / दस लाख की रंगदारी न देने पर जेसीबी से मकान ध्वस्त कराने का आरोप, पांच पर केस दर्ज

दस लाख की रंगदारी न देने पर जेसीबी से मकान ध्वस्त कराने का आरोप, पांच पर केस दर्ज

मुरादाबाद,  (हि.स.)। मुरादाबाद के नागफनी थाना क्षेत्र निवासी ने व्यक्ति ने थाना मझोला पुलिस को दी तहरीर में आरोप लगाया कि थाना मझोला क्षेत्र में कुछ लोगों को उसने 10 लाख रुपये की रंगदारी नहीं दी तो उन आरोपितों ने उसके प्लॉट पर निर्माणाधीन मकान पर जेसीबी चलाकर उसे ध्वस्त कर दिया। साथ ही आरोपितों ने वहां काम कर रहे मजदूरों को भी धमकाकर भगा दिया। पीड़ित की तहरीर पर थाना मझोला पुलिस ने शनिवार को मामले में पांच आरोपितों के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

थाना नागफनी क्षेत्र के दौलत बाग गली नंबर दो के निवासी इकबाल का कहना है कि मैनाठेर में उसका 300 वर्ग मीटर का प्लाट है। इस पर निर्माण कार्य करा रहा है। इकबाल ने यह प्लॉट अपने बेटे जीशान के नाम से 2011 में मैनाठेर के ही डोरीलाल से खरीदा था। आरोप है कि 23 जून को मोहम्मद नईम उर्फ विष्णु आया और उसके साथ राहुल, कलुआ व एक अन्य व्यक्ति भी था। आरोप लगाया कि आरोपित लोगों ने प्लाट पर आते ही गालियां देने लगे और काम कर रहे मजदूरों को भगा दिया। जेसीबी से निर्माणाधीन मकान के एक गेट का पल्ला तोड़ डाला, अन्य संपत्ति नष्ट कर दी।

आरोप है कि इन लोगों ने कहा कि इलाका हमारा है यहां उनके बिना सहमति के परिंदा पर नहीं मारता। 10 लाख रुपये की रंगदारी चाहिए, नहीं तो दोबारा प्लॉट पर निर्माण प्रारंभ कराया तो जान से मार देंगे। दबंगों की इस गतिविधि को इकबाल ने रिकार्ड भी कर रखा है। रंगदारी मिलने का इंतजार करने के बाद ये लोग तीन दिन बाद 27 जून रात 11 बजे इकबाल के निर्माणाधीन मकान वाले प्लाट पर फिर पहुंचे। प्लाट पर जो काम करता मिला उसे पीटा और भगा दिया। इसके साथ ही जेसीबी मंगाकर निर्माणाधीन मकान की दीवारें तोड़ दी। दो गेट तोड़ डाले।

आरोपितों ने इकबाल को धमकाते हुए कहा, पैसा न दिया और प्लॉट पर दोबारा काम शुरू कराया तो अगला नंबर तुम्हारा ही रखेंगे। इकबाल ने बताया कि विपक्षियों की दबंगई के कारण ही उसके प्लाट पर काम भी बंद चल रहा है। पीड़ित की तहरीर पर इकबाल ने मझोला थाने में मोहम्मद नईम उर्फ विष्णु, मोहम्मद अफजल, राहुल, कलुआ व एक अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। इकबाल ने आरोप लगाते हुए बताया कि आरोपित उसके प्लाट पर एक साल से निर्माण कार्य होने नहीं दे रहे हैं। इस बार उन्होंने हिम्मतकर काम शुरू कराया था तो 23 जून से विवाद बढ़ गया है। इस मामले में थाना मझोला की ट्रांसपोर्ट नगर पुलिस चौकी पर भी गए थे लेकिन दारोगा ने अनदेखा कर दिया। फिर 27 जून को घटना हुई तो वह थाने गए और प्रार्थना पत्र दिया था।

मामले में थाना मझोला एसएचओ विप्लव शर्मा ने बताया कि मैनाठेर में जिस संबंधित प्लाट का मामला है, वह विवादित जगह है। यह प्रकरण राजस्व विभाग का है। जमीन का स्वामित्व न्यायालय तय कर करेगा। वैसे वादी ने निर्माणाधीन मकान में दीवार टूटने की बात बताई तो केस दर्ज कर लिया हैं। मामले जांच शुरू करा दी हैं, जांच में जो भी तथ्य सामने आएंगे उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

Check Also

हर भारतीय के किचन में पहुंची मैगी…..सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक !

नई दिल्ली (ईएमएस)। नेस्ले इंडिया ने हाल ही में खुलासा किया है कि भारत में ...