Breaking News
Home / अपराध / गोंडा : कहीं जमीनी विवाद में तो नहीं हुई बालिका की हत्या, एक क्लिक में पढ़े पूरी रिपोर्ट

गोंडा : कहीं जमीनी विवाद में तो नहीं हुई बालिका की हत्या, एक क्लिक में पढ़े पूरी रिपोर्ट

दो दिन पहले आसाराम बापू सत्संग भवन के सामने कार की डिग्गी में मिला था किशोरी का शव

गोंडा।  दो दिन पहले आसाराम बापू आश्रम में खडी कार में एक किशोरी का शव मिला जिसके पोस्टमार्टम में हत्या का कारण डाक्टरों का पैनल नहीं बता सका। बिसरा सुरक्षित रख लिया गया है। किशोरी की मां ने जमीनी मामला बताकर कई लोगों को नामजद किया है, पुलिस दो दिनों से वादी व परिवादी से पूंछताछ कर रही है। चर्चा है कि कहीं जमीनी विवाद तो बालिका की हत्या का कारण नहीं बना है।

घटना नगर कोतवाली क्षेत्र के मिश्रोलिया चौकी क्षेत्र का है जहां से करीब 500 मीटर दूर आन रोड आसाराम बापू आश्रम में खडी कार की डिग्गी में 13 वर्ष की बालिका का शव लापता होने के दो दिन बाद मिला। सूचना पर पुलिस अधिकारी पहुंचे और आनन -फानन में बालिका के शव को पीएम के लिए भेजा जहां पांच डाकटरों के पैनल ने पीएम किया। पीएम रिपोर्ट में चोट के निशान नहीं मिले, बिसरा सुरक्षित कर प्रयोगशाला में जांच के लिए भेज दिया गया है। बालिका की मां की तहरीर पर पुलिस ने नामजद लोगों को बुलाकर पूंछतांछ शुरू कर दी और परिजनों से जानकारी ली। अभी तक हत्या का कारण अस्पष्ट है।

किशोरी की मां के मुताबिक उनका जमीनी मामला चल रहा है।तीन साल से किशोरी के पिता लापता हैं।मंगलवार को उनकी बच्ची लापता हो गयी थी, आस-पास ढूढा, कुछ पता न लगने पर पुलिस को बालिका लापता की सूचना दी। अब बालिका का शव मिलने पर महिला इसे जमीन विवाद का कारण मान रही है। कुछ समय पहले महिला के बच्चों पर दूसरे पक्ष ने नगर पुलिस में मारपीट का मुकदमा दर्ज कराया था। विधि विज्ञान प्रयोगशाला की टीम ने घटना का निरीक्षण कर सबूत इकट्टा किये लेकिन कोई परिणाम जारी नहीं किया है। बालिका की हत्या से अपराध व आसाराम के आश्रम की चर्चा चहुओर हो गयी है। चर्चा है कि मुठभेड में माहिर पुलिस बालिका हत्या के करीब कैसे नहीं पहुंच पा रही है। एक परिवार का मुखिया गायब, बच्चों पर मुकदमा, बालिका की मौत के पीछे जमीनी विवाद दिख रहा है।

डीएम राम बहादुर के बाद जमीन मामले में पुलिस हावी

गोंडा, तत्कालीन डीएम राम बहादुर जमीन के मामले में वादी की शिकायत पत्र पर संबधित अधिकारी को एक पत्र लिखते थे जिसकी प्रतिलिपि वादी को देते रहे और राजस्व अधिकारी की मौजूदगी में ही जमीन के प्रकरण निस्तारित किये जाते रहे लेकिन उनक जाने के बाद आने वाले जिला अधिकारी जमीन के प्रार्थनापत्रों में आवश्यक कार्रवाइ्र लिखकर बला टालते गये और एसडीएम तो उनसे एक कदम आगे, आरई, थानाध्यक्ष को निर्देशित करते रहे । नतीजा आरआइ व थानाध्यक्ष कभी एक समय नहीं पहंुच पाये और पुलिस हावी रही। चर्चा है कि जमीन मामले में पुलिस की कोरोना काल में बल्ले बल्ले हो गया है।

क्या कहते हैं एसपी
गोंडा, एसपी संतोष कुमार मिश्र का कहना है कि सूचना मिली थी कि आसाराम बापू के आश्रम में कार में बालिका का शव पडा है, मौके पर डाग स्वायड , विधि विज्ञान प्रयोगशाला टीम व पुलिस पहुंची। पांच डॉक्टरों के पैनल पीएम में मृत्यु का कारण अस्पष्ट है। विसरा सुरक्षित रख लिया गया है। पंाच टीमों को लगाया गया है। जल्द की घटना का खुलासा कर लिया जाएगा।

Check Also

Report : 10 महीने से पृथ्वी के तापमान की रिकॉर्ड वृद्धि दर्ज, सबसे गर्म महीना बना…

वाशिंगटन (ईएमएस)। ताजा आंकड़ों से पता चला है कि बीता मार्च महीना धरती के अब ...