क्रिकेट इतिहास में सिर्फ 4 बल्लेबाज ही कर पाएं ये कारनामा, जानें कौन-कौन दिग्गज है शामिल

0
13

टेस्ट क्रिकेट को हमेशा ही धैर्य पूर्ण तरीके से खेला जाता है. टेस्ट क्रिकेट में बल्लेबाज को संयम दिखाना होता है. बता दें कि क्रिकेट के इतिहास में सिर्फ चार बल्लेबाज ही एक ऐसा कारनामा कर पाएं जिनमें एक भारतीय भी है.
जानिया पूरी खबर. 

टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) को हमेशा ही धैर्य पूर्ण तरीके से खेला जाता है. इसमें क्लासिक बल्लेबाजी की आवश्यकता होती है. टेस्ट क्रिकेट में जो भी बल्लेबाज संयम दिखाएगा, वहीं 5 दिन के क्रिकेट में टिक पाता है. टेस्ट क्रिकेट का जनक इंग्लैंड (England) को माना जाता है. बता दें कि टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में चार ही बल्लेबाज अब तक तिहरे शतक लगा पाए हैं. इस लिस्ट में एक धाकड़ भारतीय बल्लेबाज भी शामिल हैं. इस भारतीय बल्लेबाज के नाम से सभी गेंदबाज कांपते थे. ये भारतीय बल्लेबाज जब क्रीज पर आता था तो चौकों और छक्कों की झड़ी लग जाती थी.

1. क्रिस गेल

क्रिस गेल (Chris Gayle) टी-20 क्रिकेट में दुनिया के सिक्सर किंग है, लेकिन टेस्ट क्रिकेट में भी उन्होंने अपनी बल्लेबाजी के जौहर दिखाए हैं. गेल ने साल 2017 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ 317 रनों की शानदार पारी खेली थी. वहीं, साल 2010 में क्रिस गेल ने श्रीलंका के विरुद्ध 333 रनों की धांसू पारी खेली थी. आपकी जानकारी के लिए बता दें क्रिस गेल दुनियाभर की क्रिकेट लीग में खेलते हैं. इसी वजह से पूरी दुनिया में उनके फैंस मौजूद हैं.

2. डॉन ब्रेडमैन

महान बल्लेबाज डॉन ब्रेडमैन (Don Bradman) ने भी अपने क्रिकेट करियर में दो तिहरे शतक लगाए हैं. डाॅन ने अपने दोनों तिहरे शतक इंग्लैंड टीम के खिलाफ ही लगाए हैं. उन्होंने साल 1934 में 334 रन और साल 1930 में 304 रनों की शानदार पारी खेली थी. इस दिग्गज बल्लेबाज ने अपने क्रिकेट करियर में सिर्फ 52 टेस्ट मैच ही खेले हैं.

3. ब्रायन लारा

ब्रायन लारा (Brian Lara) की गिनती दुनिया के महान बल्लेबाजों में होती हैं. लारा के नाम ही टेस्ट क्रिकेट का सर्वोच्च स्कोर बनाने का रिकॉर्ड हैं. उन्होंने साल 2004 में इंग्लैंड के खिलाफ 400 रनों की धमाकेदार पारी खेली थी. वहीं, साल 1994 में भी लारा ने इंग्लैंड के खिलाफ ही 375 रनों की पारी खेली थी. ब्रायन लारा अपनी विस्फोटक पारियों के लिए जाने जाते हैं.

4. वीरेंद्र सहवाग

भारत के वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) की गिनती खतरनाक बल्लेबाजों में होती है. उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में खेलने के तरीके को ही बदल डाला. वह बहुत तेजी के साथ रन बनाते थे. टेस्ट क्रिकेट को सहवाग टी-20 की तरह ही खेलते थे वीरेंद्र सहवाग ने अपना पहला तिहरा शतक साल 2004 में पाकिस्तान के खिलाफ लगाया था. उन्होंने उस मैच में 309 रनों की धांसू पारी खेली थी. वहीं सहवाग ने दूसरा तिहरा शतक साल 2008 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ लगाया था. उस मैच में उन्होंने 319 रनों की शानदार पारी खेली थी.