Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट की UP में एंट्री, देश में कुल आंकड़ा 113 हुआ

कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट की UP में एंट्री, देश में कुल आंकड़ा 113 हुआ

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की उत्तर प्रदेश में एंट्री हो गई है। दिल्ली से सटे गाजियाबाद जिले में बुजुर्ग दंपति में ओमिक्रॉन की पुष्टि हुई है। दंपति की ट्रैवल हिस्ट्री महाराष्ट्र-राजस्थान से जुड़ी हुई है। दोनों इन राज्यों में कई शहरों में घूमने के बाद गाजियाबाद आए थे।

इधर, महाराष्ट्र में कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन डराने लगा है। यहां शुक्रवार को एक बार फिर 8 नए मरीज मिले हैं। इनमें सभी विदेश से लौटे हैं। 4 संयुक्त अरब अमीरात (UAE), 1-1 अमेरिका और नाइजीरिया, जबकि इन लोगों के संपर्क में आए 2 शख्स में नए संक्रमण की पुष्टि हुई है। महाराष्ट्र में अब कुल मामले बढ़कर 40 हो गए हैं।

गुजरात में भी शुक्रवार को दो लोग ओमिक्रॉन संक्रमित मिले हैं। बताया जा रहा है कि ये दोनों बुजुर्ग दंपति हाल ही में जांबिया से लौटे हैं। इस तरह देशभर में ओमिक्रॉन के मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 113 हो गई है।

सभी 8 संक्रमित पुरुष हैं
महाराष्ट्र में शुक्रवार को मिले सभी मरीजों के सैंपल दिसंबर के पहले हफ्ते में जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए थे। इनकी रिपोर्ट अब सामने आई है। सभी 8 संक्रमित पुरुष हैं। इनकी उम्र 29 से 45 साल के बीच है। संक्रमितों में चार पुणे से, दो इनके क्लोज कांटेक्ट, एक मुंबई और एक कल्याण-डोम्बिवली क्षेत्र से हैं।

8 में से 2 मरीज अस्पताल में, जबकि 6 होम आइसोलेशन में है। इनके संपर्क में आये कुछ अन्य लोगों की तालाश की जा रही है। खास यह है कि सभी 8 मरीज वैक्सीनेटेड है।

महाराष्ट्र में कहां-कितने ओमिक्रॉन संक्रमित

शहर संक्रमित मरीज
मुंबई 14
पुणे(शहर) 2
पुणे (ग्रामीण) 6
पिंपरी चिंचवाड़ 10
कल्याण-डोंबिवली 2
उस्मानाबाद 2
लातूर 1
बुलढाणा 1
नागपुर 1
वसई विरार 1

 

ओमिक्रॉन के खिलाफ जबरदस्त प्रभावी है स्पूतनिक-वी वैक्सीन
कोरोनावायरस की स्पूतनिक वी वैक्सीन के कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट पर जबरदस्त रूप से प्रभावी होने का दावा किया गया है। रशियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड (आरडीआईएफ) के मुताबिक, स्पूतनिक वी ओमिक्रॉन को निष्प्रभावी करने में कारगर है और इसके साथ स्पूतनिक लाइट बूस्टर लगाने के बाद यह वैक्सीन बाकी टीकों (mRNA वैक्सीन समेत) के मुकाबले तीन से सात गुना बेहतर है। आरडीआईएफ ने कहा कि स्पूतनिक लाइट वैक्सीन दो से तीन महीने बाद ओमिक्रॉन के खिलाफ 80 फीसदी तक प्रभावी पाई गई।

Check Also

प्रतापगढ़ : 42 वर्षों से रामपुर खास में फहरा रहा है कांग्रेस का झण्डा

– पिता से विरासत में मिली विधायिकी को बचाना मोना के लिये चुनौती लालगंज, प्रतापगढ़। ...