कानपुर में हिंसा : व्हाट्सएप ग्रुप में हिंसा के लिए चल रही थी चैटिंग, फोन से संपर्क में था पाकिस्तानी

0
495

कानपुर । कानपुर में तीन जून को हुई हिंसा में अब पाकिस्तान का कनेक्शन भी सामने आ गया है। उपद्रवी लोग व्हाट्सएप ग्रुप और फोन के जरिये पाकिस्तान के संदिग्धों से संपर्क में थे। पाकिस्तान कनेक्शन सामने आते ही कमिश्नरेट पुलिस प्ररकण की एसआईटी से जांच कराते हुए कार्रवाई में जुट गई है।

बेकनगंज की नई सड़क में तीन जून को जुमे की नमाज के बाद हिंसा भड़क गई थी। हिंसा की जांच कर रही एसआईटी (विशेष जांच दल) को रोजाना नये नये तथ्य सामने मिल रहे हैं। गुरुवार को कमिश्नरेट पुलिस कुछ अहम सबूत हाथ लगे जिसमें व्हाट्सप ग्रुप के जरिये उस दिन कुछ उपद्रवी पाकिस्तान के संपर्क में थे। एक अपराधी अकील खिचड़ी जो, डी-2 गैंग का है वह किसी पाकिस्तान शख्स से फोन पर वार्ता कर रहा था। फोन पर और व्हाट्सएप ग्रुप में यहां के हालात बताये जा रहे थे और पाकिस्तान से आगे की रणनीति बताई जा रही थी।

पाकिस्तान का कनेक्शन कानपुर हिंसा में सामने आने पर कमिश्नरेट पुलिस ने एसआईटी को जांच सौंप दी है। जिस नंबर पर कॉल की गई थी, उसका पूरा डेटा निकलने की एसआईटी कोशिश कर रही है। कॉल का समय भी दोपहर का है और दोपहर में ही बवाल शुरु हुआ था। ऐसे में पुलिस को शक है, कि अकील और डी-2 गैंग के अन्य सदस्यों का परेड हिंसा की साजिश में हाथ हो सकता है। व्हाट्सएप चैट के मुताबिक हिंसाग्रस्त इलाके में बम लाने को भी कहा गया था।

संयुक्त पुलिस आयुक्त आनंद प्रकाश तिवारी ने गुरुवार को बताया कि सोशल मीडिया में कुछ अहम साक्ष्य मिले हैं। एसआईटी को जांच सौंपी गई है और जल्द ही घटना से जुड़े साक्ष्यों को एकत्र करके टीम खुलासा करेगी।