Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / उप्र में बीते 24 घंटे में आपदाओं से 17 लोगों की मौत, आकाशीय बिजली गिरने से नौ लोगों की गई जान

उप्र में बीते 24 घंटे में आपदाओं से 17 लोगों की मौत, आकाशीय बिजली गिरने से नौ लोगों की गई जान

 

– प्रदेश में अब तक कुल 236.7 मिलीमीटर वर्षा हुई

– कुल 5043 लोगों को बाढ़ शरणालय में रखा गया

लखनऊ,  (हि.स.)। उत्तर प्रदेश में बीते 24 घंटे में आपदाओं से 17 लोगों की मौतें हुई हैं। इनमें आकाशीय बिजली से नौ, सात लोगों की डूबने से हुई है। एक मृत्यु सर्पदंश से हुई है।

राहत आयुक्त कार्यालय के मुताबिक, गाजीपुर में आकाशीय बिजली से मरने वालों की संख्या पांच है। बलिया में दो, सुलतानपुर और बदायूं एक-एक लोगों की जान गई हैं। बिजनौर में तीन लोगों की डूबने मौत हुई है। इसी तरह अमेठी में दो, सुलतानपुर, कानपुर देहात में एक-एक लोगों की जान गई। सीतापुर में सांप कटाने एक व्यक्ति की मौत हुई है।

बीते 24 घंटे में मैनपुरी, मुरादाबाद, कन्नौज, फर्रुखाबाद, इटावा, कासगंज, संभल, महाराजगंज, में 30 मीलीमीटर से अधिक वर्षा दर्ज की गई है। प्रदेश में अब तक कुल 236.7 मिलीमीटर वर्षा हुई है, जो औसत सामान्य के सापेक्ष 113 प्रतिशत है। प्रदेश के 19 जिलों में अत्यधिक वर्षा, 13 जनपदों में सामान्य से ज्यादा वर्षा, 20 जनपदों में सामान्य वर्षा तथा 18 जनपदों में कम वर्षा एवं 05 जनपदों में अत्यधिक कम वर्षा दर्ज की गयी है।

सिंचाई विभाग के अनुसार खतरे के जलस्तर से ऊपर गंगा कचला ब्रिज (बदायूं), यमुना नदी में मावी मुजफफरनगर में खतरे के जलस्तर से उपर बह रही है। प्रदेश के जनपद अलीगढ़, मथुरा, मेरठ, सहारनपुर, गौतमबुद्नगर, शामली, गाज़ियाबाद, बागपत व मुजफ्फरनगर को छोड़कर कहीं भी अतिवृष्टि से जलभराव की स्थिति नहीं है। जनपद सहारनपुर के 104 गांव तथा 13 नगरी मोहल्ले, शामली के 25 गांव (केवल क़षि क्षेत्र ही प्रभावित), गौतमबुद्व नगर के 06 गांव, बागपत के 11(केवल क़षि क्षेत्र ही प्रभावित), मुजफ्फरनगर-12 गांव, अलीगढ़-10, मथुरा, 12 मेरठ-15(केवल क़षि क्षेत्र ही प्रभावित), गाज़ियाबाद-09 बाढ़ से प्रभावित हैं। इन क्षेत्रों के कुल 5043 लोगों को बाढ़ शरणालय में रखा गया है, जिनके भोजन एवं रहने की उचित व्यवस्थाएं की गई है।

Check Also

कानपुर : फेरों से पहले दूल्हे के गहने लेकर दुल्हन हुई रफूचक्कर, जब बराती ने रास्ता रोका तो

 बराती ने रास्ता रोका तो भाइयों ने उठाकर पटका कानपुर। ग्यारह हसबैंडों का बैंड बजाने ...