Breaking News
Home / धर्म / इस राशि के लोगों के लिए अगले 3 साल बेहद कठिन, जानिए इससे बचने के उपाय

इस राशि के लोगों के लिए अगले 3 साल बेहद कठिन, जानिए इससे बचने के उपाय

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनि को एक राशि से दूसरी राशि में जाने में ढाई वर्ष का समय लगता है। शनि को सबसे धीमी गति से चलने वाला ग्रह कहा जाता है। वहीं, पूरी राशि को पूरा करने में 30 साल का समय लगता है। इसलिए शनिदेव की साधारण सती की तीन अवस्थाएँ होती हैं और प्रत्येक अवस्था ढाई वर्ष की होती है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 11 अक्टूबर 2021 को शनि सीधे मकर राशि में चला गया। और 30 साल बाद, 29 अप्रैल को, शनि ने अपनी राशि कुंभ राशि में प्रवेश किया। अब शनि की पूर्व गति 5 जून से शुरू होकर 12 जुलाई को पुन: मकर राशि में प्रवेश करेगी। अगले साल 17 जनवरी 2023 को वह मकर राशि से कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे।

शनि के इस परिवर्तन का राशि पर प्रभाव: 5 जून को शनिदेव ने कुंभ राशि में प्रवेश किया। इस बीच 3 पनोती के प्रकोप में हैं और 2 ढैया के प्रकोप से बाहर आ रहे हैं। 5 जून 2022 से 29 मार्च 2025 तक शनि कुंभ राशि में विराजमान है। बता दें कि कुंभ इस समय शनि के प्रकोप से गुजर रहा है।

मकर- मकर राशि इन दिनों शनि की साढ़ेसाती से गुजर रही है. 29 अप्रैल से शुरू हुई साढ़े साती 11 जुलाई 2022 तक चलेगी। मकर राशि वालों के लिए यह सादी सती का अंतिम चरण है।

कुम्भ- शनि के इस गोचर का सबसे ज्यादा असर कुंभ राशि पर देखने को मिल रहा है. ऐसे में इन लोगों को थोड़ा सावधान रहना चाहिए। करियर और फाइनेंस के मामले में कुंभ राशि वालों के लिए यह समय मुश्किलों भरा हो सकता है। यह समय आलस्य छोड़ कर मेहनत पर ध्यान देने का है। अपने खर्च पर भी नियंत्रण रखें।

मीन राशि- ज्योतिष के अनुसार 12 जुलाई तक शनि मीन राशि के जातकों के लिए शनि के प्रथम चरण में रहेगा. ऐसे में मीन राशि के लोगों को कोई भी फैसला धैर्य और समझदारी से लेना चाहिए। नहीं तो आपको किसी भी तरह का नुकसान उठाना पड़ सकता है।

इस राशि के लोगों का मुख शनिदेव धैया पर है: इस समय वृश्चिक और कर्क राशि के लोग शनिदेव से जूझ रहे हैं। और अगले ढाई साल तक, वे अपने दम पर रहने वाले हैं। जिससे इन लोगों को शारीरिक और मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

शनिदेव को प्रसन्न करने के उपाय

मकर- हर शनिवार और हो सके तो नियमित रूप से भगवान शिव की पूजा करें. पीपल के पेड़ के पास शनि स्रोत का पाठ करें। कच्ची लस्सी में काले तिल डालकर पीपल के पेड़ पर चढ़ाना भी शुभ माना जाता है।

कुंभ और शनि के बीच मंत्रों का जाप करना लाभकारी होता है।

मीन राशि- शुभ मुहूर्त में काले घोड़े के जूते में मध्यमा अंगुली में कील की अंगूठी पहनें.

तुला राशि- काले कुत्ते को हर शनिवार को भोजन कराएं.

वृश्चिक- शनिवार के दिन सुंदरकांडी का पाठ करें।

मिथुन– शनि अमावस्या के दिन शाम को सूर्यास्त के बाद शनिदेव की पूजा करें. शनि मंत्र का जाप करें।

Check Also

लोकसभा निर्वाचनः प्रथम चरण में मप्र के छह संसदीय क्षेत्र में शुक्रवार को मतदान, जानें क्या है तैयारी

– मतदान दल आज मतदान सामग्री लेकर होंगे रवाना भोपाल । लोकसभा निर्वाचन-2024 के कार्यक्रम ...