आर्मी में भर्ती कराने के नाम पर कोचिंग चला रहा फर्जी कमांडो पुलिस की आया गिरफ्त में

0
2245

सरकार की योजना के बारे में युवाओं को गुमराह करने का आरोप

ललितपुर (ईएमएस)। केंद्र की मोदी सरकार द्वारा युवाओं को आर्मी में सुनहरा अवसर देने वाली अग्नीपथ योजना को लेकर पूरे देश में बवाल मचा हुआ है। देश की करोड़ों अरबों की संपत्ति के आंदोलन की आग में स्वाहा हो चुकी है, तो वहीं जनपद के एक कस्बे में फर्जी आर्मी कमांडो बनकर आर्मी में भर्ती कराने के नाम पर कोचिंग चला रहा एक शातिर युवक भी अपने आप को आर्मी का जवान बताकर यहां के युवाओं को भड़काने का काम कर रहा था। जिसकी सूचना मुखबिर के माध्यम से कोतवाली पुलिस को मिली। मुखबिर की सूचना के आधार पर कोतवाली पुलिस ने वहां पर छापामार कार्यवाही की तो वहां से फर्जी आर्मी कमांडो उस समय गिरफ्तार किया जब वह अपनी कोचिंग सेंटर में कुछ युवाओं को बैठाकर अग्नीपथ योजना के नाम पर उल्टी-सीधी पट्टी पढ़ा कर भड़काने का काम कर रहा था। मामला कोतवाली तालबेहट के अंतर्गत स्थानीय कस्बे के मुहल्ला सिविल लाइन विजली घर के पास का है।

मिली जानकारी के अनुसार कोतवाली तालबेहट पुलिस को मुखबिर के माध्यम से सूचना मिली कि कस्बे के सिविल लाइन इलाके में 66 केबीए बिजली घर के पास एक आर्मी का कमांडो एम0बी0एस एकेडमी संचालित की जा रही है। जिसका संचालक सेना कामांडो बताकर युवकों को सेना भर्ती कर रहा है और जो सरकार की अग्निपथ योजना को लेकर वहां पर युवाओं को भड़काने का काम कर रहा है ।

मुखबिर की सूचना के आधार पर जब कोतवाली तालबेहट पुलिस में तैनात उपनिरीक्षक प्रवीण कुमार ने पुलिस बल के साथ छापामार कार्यावाही की तो वहाँ से आर्मी जवान जैसे दिखने वाले एक युवक को उस समय गिरफ्तार किया जब वह युवाओं को अग्नीपथ योजना के नाम पर भटकाने का काम कर रहा था। पुलिस की पूछताछ के दौरान उसने अपना नाम सूरज सिंह पुत्र प्रभुदयाल यादव निवासी पिपरई कोतवाली क्षेत्र बताया। पूछताछ में उसने बताया कि वह कामांडो बन कर सेना भर्ती की तैयारी करा रहा था। वह सेना कामांडो नहीं है वह सुरक्षा गार्ड की नौकरी करता है। फिलहाल पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर उसके खिलाफ 107 188 170 धाराओं में मामला पंजीकृत कर कार्यवाही की है अभी उससे और पूछताछ कर रही है और उसका रिकॉर्ड भी खंगाल रही है।