अफजलगढ़ : कालागढ़ डैम से पानी छोड़े जाने से गांव फिर हुआ जलमग्न

0
12

-एसडीओ व एसडीएम ने नांव से किया मौका मुआयना

अफजलगढ़ । चार सप्ताह पूर्व हुई भारी वर्शा से गांव झाड़पुरा, भागीजोत तथा सलावतनगर में पानी ने तबाही मचा दी थी वहीं पानी कुछ दिनों बाद कालागढ़ डैम से छोडने पर गांव में किसानों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों द्वारा पानी रोकने के लिए बनाया गया बंदा भी पानी में डूब जाने से ग्रामीणों ने षासन से मदद की गुहार लगाई थी गौरतलब है कि बीते माह हुई भारी बारिश के बाद अब तक अफजलगढ़ क्षेत्र के गांव झाड़पुरा सहित आसपास के ग्रामीण तबाही से उबर नही पा रहे हैं।

गांव में रामगंगा नदी के पानी ने तबाही मचाई हुई है नदी का पानी खेतों का कटान करते हुए भारी नाले के रूप में गांव के निकट खेतों के मुख्य मार्ग पर खड़ा हो गया है। पानी को रोकने के लिए ग्राम प्रधान कपिल कुमार ने ग्रामीणों की मदद से नदी के टूटे बन्दे पर और पानी रोकने के लिये हजारों कट्टे,कई कुंटल लकड़ी मुद्दे पेड़ लगाकर पानी बंद करने का प्रयास किया था। लेकिन मंगलवार बीती रात दोबारा कालागढ़ डैम से पानी छोड़ा गया जिससे ग्रामीणेां द्वारा बनाया गया बंदा पानी बह गया और पहले से भी अधिक पानी मार्ग पर खड़ा हो गया। इस संबंध ग्राम प्रधान कपिल कुमार,राजेंद्र सिंह, कृपाल सिंह,मुखराम,नन्हें सिंह तथा मुकेष कुमार द्वारा विभागीय अधिकारियों को भी अवगत कराया गया किन्तु कोई समाधान नहीं हुआ पानी की गहराई करीब 6 फुट है जिसके कारण किसान अपने खेतों पर जाने की हिम्मत नही जुटा पा रहे हैं।

वहीं पषुओं के लिए भी चारे का बड़ा संकट खड़ा हो गया है। ग्रामीणों ने फोन के माध्यम से उच्चाधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि एक दिन के भीतर उनकी समस्या का समाधान नहीं हुआ तो वह आंदोलन के लिए बाध्य होंगे। वही पानी की समस्या को देखते मौके पर पहुंचे एसडीओ मुरादाबाद प्रतीक सहना ने नाव पर बैठकर बाढ़ का निरीक्षण किया इस मौके पर उनके साथ उपजिलाधिकारी धामपुर विजयवर्धन तोमर, बनीराम पटवारी, बलराम पटवारी, सौरव पटवारी कहना है कि ग्रामीणों की समस्याओं का षीघ्र समाधान कराने का प्रयास किया जायेगा।