Breaking News
Home / Lok Sabha Election 2024 / अनुप्रिया पटेल के गढ़ में पहुंच वोटरों में सेंध लगाने के प्रयास में सपा, जानिए क्या बनाया प्लान

अनुप्रिया पटेल के गढ़ में पहुंच वोटरों में सेंध लगाने के प्रयास में सपा, जानिए क्या बनाया प्लान

मीरजापुर में अपना दल को झटका देने की तैयारी, भाजपा के बागी नेता मनोज से मिले सपा अध्यक्ष नरेश उत्तम

 -नेताओं-कार्यकर्ताओं से चुनावी रणनीति पर चर्चा कर जीत का मंत्र दे गए नरेश उत्त

मीरजापुर  (हि.स.)। दो दिवसीय दौरे पर मीरजापुर आए समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व मीरजापुर लोकसभा प्रभारी नरेश उत्तम पटेल और भाजपा के पूर्व नेता मनोज श्रीवास्तव की मुलाकात चर्चा में है। इससे साफ है कि सपा भाजपा-अपना दल (सोनेलाल) को झटका देने की तैयारी में है। मनोज निकाय चुनाव में अपनी ही पार्टी भाजपा से बगावत पर उतर आए थे। नगर पालिका परिषद मीरजापुर के अध्यक्ष पद का टिकट न मिलने पर से वह नाराज थे।

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी ने लोकसभा चुनाव की तैयारियां तेज कर दी है। एक सप्ताह पहले सपा ने 16 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम घोषित किए। बूथ से लेकर शीर्ष स्तर तक के नेता संगठन को मजबूत बनाने में जुटे हैं। मीरजापुर दौरे पर आए सपा प्रदेश अध्यक्ष नेताओं-कार्यकर्ताओं से चुनावी रणनीति पर चर्चा कर जीत का मंत्र दे गए। इस दौरान प्रदेश अध्यक्ष ने भाजपा के पूर्व नेता और प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य रहे मनोज श्रीवास्तव के घर पहुंचकर उनसे मुलाकात की। मनोज श्रीवास्तव के घर दोनों नेताओं की बंद कमरे में 45 मिनट से अधिक समय तक मुलाकात हुई। माना जा रहा है कि मनोज श्रीवास्तव को साधकर समाजवादी पार्टी मीरजापुर में भाजपा और अपना दल को कमजोर बनाने की रणनीति में जुटी है। नरेश उत्तम केंद्रीय राज्यमंत्री अनुप्रिया पटेल के गढ़ में पहुंचकर उनके वोटरों में सेंध लगाने के प्रयास में हैं। कयास लगाया जा रहा है कि सपा प्रदेश अध्यक्ष और अनुप्रिया लोकसभा चुनाव में आमने-सामने होंगे।

 

संघ व भाजपा से जुड़े रहे हैं मनोज श्रीवास्तव

हालांकि मनोज श्रीवास्तव संघ व भाजपा से जुड़े रहे हैं। वर्ष 1987 में मनोज बजरंग दल से जुड़े। 1993 में बजरंग दल के जिला संयोजक और 1996 में प्रांत संयोजक बनाए गए। इसके बाद मनोज विश्व हिंदू परिषद से जुड़े और अशोक सिंघल के करीबी हो गए। विहिप ने उन्हें प्रांत संगठन मंत्री की जिम्मेदारी दी।

Check Also

रिपोर्ट : लगातार बढ़ रहे गुस्से और चिढ़चिढ़ेपन के कारण रिश्ते हो रहे शर्मसार

नई दिल्‍ली। क्‍या रिश्‍तों की नई परिभाषा गढ़ी जानी चाहिए? दरअसल आजकल बच्चों और माता-पिता ...