‘अग्निपथ’ योजना के खिलाफ बिहार में गुस्‍सा, जहानाबाद में ट्रैक जाम कर छात्रों ने ट्रेन पर किया पथराव

0
771

सेना भर्ती के लिए केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के खिलाफ दूसरे दिन भी प्रदर्शन जारी है. खासकर बिहार में युवा केंद्र की नई योजना के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. गुरुवार को प्रदेश के जहानाबाद, नवादा और सहरसा में प्रदर्शन की खबर सामने आ रही है. जहानाबाद युवाओं ने अग्निपथ स्कीम के विरोध में काको मोड़ के समीप आगजनी कर एनएच-83 और एनएच-110 को जाम कर दिया और केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर की नारेबाजी की. इधर, कुछ युवा रेलवे ट्रैक पर धरना दिया, जिससे पटना-गया रेललाइन पर आवागमन बाधित हो गई.

जहानाबाद में ट्रैक जाम कर रहे छात्रों ने ट्रेन पर पथराव किया है. इस घटना में कई लोगों को चोटें आईं हैं. पत्थरबाजी जहानाबाद स्टेशन के समीप हुई, जिसके बाद पुलिस ने छात्रों को खदेड़ कर रेलवे ट्रैक को खाली कराया. इधर नवादा, आरा और सहरसा में भी रेवले स्टेशन और सड़क पर युवाओं का प्रदर्शन जारी है. आरा में युवाओं ने रेलवे स्टेशन पर हुड़दंग मचाया, जिसके बाद पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागकर उन्हें खदेड़ दिया.

इधर, सहरसा में सेना भर्ती की परीक्षा रद्द होने और आयुसीमा कम करने के विरोध में अभ्यर्थियों ने ट्रेन रोक विरोध प्रदर्शन किया. अभ्यर्थियों ने दिल्ली जाने वाली क्लोन हमसफर, वैशाली सुपरफास्ट और पटना जाने वाली राजरानी सुपरफास्ट ट्रेन को घंटों से रोक रखा है. वहीं, कैमूर जिले में युवाओं के प्रदर्शन की खबर आ रही है. जिले के भभुआ रोड स्टेशन पर युवाओं द्वारा ट्रेनों में तोड़फोड़ की जा रही. पथराव के कारण इंटरसिटी एक्सप्रेस के कई शीशे टूट गए हैं. प्रदर्शकारियों द्वारा ट्रेन की बोगी में आग भी लगाई गई है. बुधवार को बिहार के मुजफ्फरपुर, आरा, बक्सर, बेगूसराय में प्रदर्शन की खबरें सामने आईं थी.

बिहार के साथ ही उत्तर प्रदेश में भी युवाओं का प्रदर्शन जारी है. पश्चिमी यूपी के बुलंदशहर में सैकड़ों की संख्या में युवा सुबह से प्रदर्शन कर रहे थे. ऐसे में सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और हल्के बल का प्रयोग कर सबको खदेड़ दिया.

प्रदर्शन के कारण 28 ट्रेनों के परिचालन प्रभावित
केंद्रीय अग्निपथ योजना के खिलाफ बिहार के कई जिलों में युवाओं का प्रदर्शन जारी है. युवा रेल ट्रैक पर बैठकर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं, जिस कारण अब तक 28 ट्रेनों के परिचालन प्रभावित हो गए हैं. इनमें जहानाबाद में पांच, बक्सर में एक, आरा में दो, बरूणा में एक, नवादा में एक, सहरसा में 10, दलसिंहसराय में दो, नारायणपुर में दो, खगड़िया में एक और थानाबिहपुर में तीन ट्रेनों का परिचालन प्रभावित हुआ है.

BJP सांसद वरुण गांधी ने राजनाथ सिंह को लिखा पत्र

केंद्र की ‘अग्निपथ’ योजना के विभिन्न प्रावधानों पर सवाल उठाते हुए, जिसमें अल्पकालिक अनुबंध के आधार पर सैनिकों की भर्ती की परिकल्पना की गई है, भाजपा सांसद वरुण गांधी ने गुरुवार को कहा कि इससे युवाओं में और अधिक असंतोष पैदा होगा. उन्होंने सरकार से अपना रुख स्पष्ट करने को कहा है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को लिखे पत्र में, गांधी ने कहा कि युवा आबादी ने सैनिकों की भर्ती प्रक्रिया में आमूल-चूल परिवर्तन के बारे में उनके साथ अपने प्रश्न और संदेह साझा किए हैं, जिसमें यह भी प्रस्ताव है कि योजना के तहत 75 प्रतिशत रंगरूट चार साल बाद पेंशन के बिना सेवानिवृत्त हो जाएंगे.

अखिलेश यादव ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को अग्निपथ योजना को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा और इस कदम को देश के भविष्य के लिए “लापरवाह” और संभावित रूप से “घातक” बताया. ” अखिलेश ने एक ट्वीट में कहा, ” देश की सुरक्षा एक अल्पकालिक या अनौपचारिक मुद्दा नहीं है, यह एक बहुत ही गंभीर और दीर्घकालिक नीति की अपेक्षा करता है. सैन्य भर्ती के संबंध में जो लापरवाही रवैया अपनाया जा रहा है वह देश और युवाओं के भविष्य की सुरक्षा के लिए घातक साबित होगा. ”

‘केंद्रीय मंत्री अपने बच्चों को बनाएं अग्निवीर’
आरजेडी ने ट्वीट कर कहा, ” रक्षा मंत्री ठाकुर राजनाथ सिंह, गृहमंत्री अमित शाह, अनुराग ठाकुर, पीयूष गोयल, निर्मला सीतारमण, गिरिराज सिंह, भुपेंद्र यादव, सिंधिया सहित मोदी सरकार के सभी मंत्रियों को सबसे पहले अपने बेटा-बेटी को अग्निपथ के ‘अग्निवीर’ बनाकर देश के समक्ष उदाहरण प्रस्तुत करना चाहिए.”

 

पूर्व सीएम मायावती ने केंद्र सरकार से की ये अपील
उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने ट्वीट कर केंद्र सरकार से अग्निपथ योजना पर दोबारा से विचार करने की अपील की है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ” सेना में काफी लंबे समय तक भर्ती लंबित रखने के बाद अब केंद्र ने सेना में 4 वर्ष अल्पावधि वाली ‘अग्निवीर’ नई भर्ती योजना घोषित की है, उसको लुभावना व लाभकारी बताने के बावजूद देश का युवा वर्ग असंतुष्ट और आक्रोशित है. वे सेना भर्ती व्यवस्था को बदलने का खुलकर विरोध कर रहे हैं. इनका मानना है कि सेना व सरकारी नौकरी में पेंशन लाभ आदि को समाप्त करने के लिए ही सरकार सेना में जवानों की भर्ती की संख्या को कमी के साथ-साथ मात्र चार साल के लिए सीमित कर रही है, जो घोर अनुचित तथा गरीब व ग्रामीण युवाओं व उनके परिवार के भविष्य के साथ खुला खिलवाड़ है.

देश में लोग पहले ही बढ़ती गरीबी, महंगाई, बेरोजगारी एवं सरकार की गलत नीतियों व अहंकारी कार्यशैली आदि से दुःखी व त्रस्त हैं, ऐसे में सेना में नई भर्ती को लेकर युवा वर्ग में फैली बेचैनी अब निराशा उत्पन्न कर रही है. सरकार तुरन्त अपने फैसले पर पुनर्विचार करे, बीएसपी की यह मांग है.”

 

बुलंदशहर में भी युवाओं ने किया प्रदर्शन
पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में भी युवाओं का प्रदर्शन जारी है. सैकड़ों की संख्या में युवा सुबर से प्रदर्शन कर रहे थे. ऐसे में सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और हल्के बल का प्रयोग कर सबको खदेड़ दिया. इधर, प्रदर्शन कर रहे युवा ने केंद्र की अग्निपथ योजना को ड्रामा बताया.

छपरा में बस में तोड़फोड़ और आगजनी

 

तेजस्वी यादव ने बीजेपी पर कसा तंज
वहीं नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने भी ट्वीट कर केंद्र की बीजेपी सरकार को घेरा है. तेजस्वी ने कहा, ” 2022 तक 80 करोड़ को नौकरी-रोजगार देने का इनका “संकल्प” था. अब वर्षों बाद  अग्निपथ  संविदा नहीं बल्कि शिक्षित युवाओं के लिए सेना में एक तरह से NAREGA स्कीम लागू की गई है. इनके वादों, जुमलों और इरादों को तो छोड़िए, जब प्रचंड बहुमत की सरकार के “संकल्प” का यह हश्र है तो बाकी का क्या?”

RJD ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना
इधर, बिहार के मुख्य विपक्षी दल आरजेडी ने पूरे मामले में केंद्र सरकार को घेरा है, पार्टी की ओर से ट्वीट कर कहा गया, ”  देश के युवाओं के भविष्य में अंगारे बिछाना ही बीजेपी की एनडीए सरकार की सुनहरी अग्निपथ भर्ती योजना है. ऐसी योजनाओं के माध्यम से बीजेपी चुपचाप पूंजीपतियों के समक्ष सेनाओं का आत्मसमर्पण करवा रही है.”

कैमूर में प्रदर्शकारियों ने ट्रेन में लगाई आग
बिहार के कैमूर जिले में युवाओं के प्रदर्शन की खबर आ रही है. जिले के भभुआ रोड स्टेशन पर युवाओं द्वारा ट्रेनों में तोड़फोड़ की जा रही. पथराव के कारण इंटरसिटी एक्सप्रेस के कई शीशे टूट गए हैं. प्रदर्शकारियों द्वारा ट्रेन की बोगी में आग भी लगाई गई है.

सहरसा में युवाओं ने रोकी रेल की रफ्तार
बिहार के सहरसा में सेना भर्ती की परीक्षा रद्द होने और आयुसीमा कम करने के विरोध में अभ्यर्थियों ने ट्रेन रोक विरोध प्रदर्शन किया. अभ्यर्थियों ने दिल्ली जाने वाली क्लोन हमसफर, वैशाली सुपरफास्ट और पटना जाने वाली राजरानी सुपरफास्ट ट्रेन को घंटों से रोक रखा है. पटरी पर तिरंगा लगा अभ्यर्थी केंद्र सरकार के विरोध में लगातार नारेबाजी कर रहे हैं. सहरसा जंक्शन पर ऐहतियात के लिए आरपीएफ के जवान और बिहार पुलिस के बल मुस्तैद हैं.

नवादा के युवाओं ने रेलवे ट्रैक किया जाम
अग्निपथ योजना के विरोध में नवादा में युवाओं ने रेलवे ट्रैक को जाम कर दिया है. वहीं, प्रदर्शनकारियों ने नवादा के प्रजातंत्र चौक के समीप टायर जलाकर विरोध किया. पुलिस प्रशासन लोगों  से शांति बनाए रखने की अपील की.

सेना बहाली के लिए केंद्र की अग्निपथ योजना के खिलाफ बिहार में युवाओं का प्रदर्शन तेज है. युवा लगातार दूसरे दिन भी केंद्रीय योजना के खिलाफ प्रदर्शन करते दिख रहे हैं. जहानाबाद, आरा, नवादा और सहरसा में प्रदर्शन की खबर सामने आई है,