Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / यूपी में कांवड़ यात्रा के दौरान यातायात प्रबंधन को व्यवस्थित करने के निर्देश

यूपी में कांवड़ यात्रा के दौरान यातायात प्रबंधन को व्यवस्थित करने के निर्देश

– मंत्री के निर्देश पर परिवहन आयुक्त ने उत्तराखण्ड के अधिकारियों संग की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग

– यात्रियों के साथ चालक, परिचालक करें अच्छा व्यवहार : एमडी, उप्र परिवहन निगम

लखनऊ (हि.स.)। उत्तर प्रदेश के परिवहन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) दयाशंकर सिंह ने श्रावण मास में कांवड़ यात्रा के दौरान श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े, इसके लिए बसों के संचालन में वृद्धि के साथ बसों एवं बस स्टेशनों की साफ-सफाई पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए हैं। कावड़ियों के आवागमन की सुविधा के लिए उन्होंने पड़ोसी राज्यों खासतौर से उत्तराखण्ड के परिवहन विभाग के अधिकारियों से सम्पर्क में रहने का भी निर्देश दिया।

परिवहन मंत्री के निर्देशों के क्रम में परिवहन आयुक्त चन्द्रभूषण सिंह ने परिवहन आयुक्त उत्तराखण्ड के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर कांवड़ यात्रा के लिए आवश्यक प्रबंध एवं प्रवर्तन कार्रवाई किये जाने पर विचार-विमर्श किया। इसमें पश्चिमी उत्तर प्रदेश के समस्त जनपदों एवं उत्तराखण्ड की ओर जाने वाली परिवहन निगम की बसों की संख्या में वृद्धि किये जाने की व्यवस्था करने पर चर्चा की गयी। इसके अतिरिक्त उत्तराखण्ड के निकटवर्ती जनपदों से जाने वाली बसों के फेरे में वृद्धि करने के साथ ही कांवड़ यात्रा से वापसी के समय कांवड़ियों को समस्या न हो, इसके लिए पर्याप्त संख्या में बसों की व्यवस्था करने पर बल दिया गया।

यूपी और उत्तराखण्ड के परिवहन आयुक्तों की वीडियो कॉन्फ्रेंस में हुए निर्णय के रूप में एमडी परिवहन निगम मासूम अली सरवर ने निर्देश दिए कि चालकों द्वारा किसी भी दशा में मादक पदार्थों का सेवन करते हुए बसों का संचालन न किया जाए। साथ ही उन्होंने परिवहन निगम की बसों में यात्रियों के साथ उचित व्यवहार करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि परिवहन निगम की बसों में यात्रियों के साथ व्यवहार उसी प्रकार करना चाहिए जैसा व्यवहार हम अपने घर आये अतिथि का करते हैं। उन्होंने कहा कि चालकों एवं परिचालकों के परिवार का भरण-पोषण इन्हीं यात्रियों द्वारा व्यय किए गए पैसों पर होता है।

Check Also

कानपुर : फेरों से पहले दूल्हे के गहने लेकर दुल्हन हुई रफूचक्कर, जब बराती ने रास्ता रोका तो

 बराती ने रास्ता रोका तो भाइयों ने उठाकर पटका कानपुर। ग्यारह हसबैंडों का बैंड बजाने ...