Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / बेटी बचाने को उप्र सरकार ने मातृत्व वंदना योजना में किया बदलाव, जानिए योजना का लाभ लेने के लिए शर्तें

बेटी बचाने को उप्र सरकार ने मातृत्व वंदना योजना में किया बदलाव, जानिए योजना का लाभ लेने के लिए शर्तें

कानपुर, (हि.स.)। कन्या शिशु दर को बढ़ावा देने के उद्देश्य से उत्तर प्रदेश सरकार ने एक अप्रैल 2023 से प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना में बदलाव किया है। योजना में नई व्यवस्था के तहत किसी महिला के दूसरी बार मां बनने पर बेटी पैदा होती है तो उसे सरकार की ओर से छह हजार रुपये की धनराशि दी जाएगी। यह जानकारी बुधवार को मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ आलोक रंजन ने दी।

उन्होंने बताया कि इससे पूर्व योजना के तहत पहली बार मां बनने पर गर्भवती महिला को दो किस्तों में पांच हजार की राशि दी जाती थी। नये नियमों के अनुसार एक अप्रैल 2022 के बाद दूसरी बार मां बनने पर जन्मी बच्चियों की माताओं को यह लाभ मिलेगा।

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत पहली बार गर्भ धारण करने वाली पंजीकृत महिला को उनकी आर्थिक सहायता और पोषण के लिए पांच हजार रुपये दिए जाते हैं। नवीन व्यवस्था के तहत यह धनराशि दो किस्तों में दी जाएगी। इसमें तीन हजार रुपये गर्भधारण के समय और दो हजार रुपये बच्चे के जन्म पंजीकरण कराने के बाद दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि योजना का लाभ पाने के लिए पात्र महिलाएं योजना के पोर्टल पर स्वयं भी पंजीकरण कर सकती है। साथ ही अपने क्षेत्र की आशा वर्कर और एएनएम की मदद से भी पंजीकरण करा सकती है।

अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ एसके सिंह ने बताया कि अगर किसी महिला को पहली एक बेटी या बेटा है और दूसरी बार वह बेटी को जन्म देती है तो बच्ची के जन्म पंजीकरण कराने पर प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत फार्म भरने के बाद मां के बैंक खाते में सरकार छह हजार रुपये एकमुश्त किस्त के रूप में भेजेगी। उन्होंने बताया कि इस योजना में लाभार्थी महिला का प्रसव किसी सरकारी अस्पताल में हुआ है या फिर प्राइवेट अस्पताल में या फिर घर में भी हुआ है तो भी उसे इस योजना का लाभ मिल सकेगा।

पुरानी योजना में मार्च तक करीब एक लाख से अधिक लाभार्थियों को मिला लाभ

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की जिला कार्यक्रम समन्वयक गज़ाला इरम ने बताया कि योजना के लिए केंद्र सरकार की ओर से प्रशिक्षण दिया जा चुका है। लाभार्थियों और आशा और एएनएम द्वारा ऑनलाइन आवेदन करने के लिए वेबसाइट में अलग से कॉलम बना दिया गया है। उन्होंने बताया कि यह योजना वर्ष 2017 से संचालित की जा रही है, जिसमें केवल पहली बार मां बनने पर तीन किस्तों में पांच हजार रुपये दिए जाते थे। पुरानी योजना में मार्च तक करीब एक लाख से अधिक लाभार्थियों को लाभ दिया जा चुका है। अब इस योजना में आंशिक सुधार किया गया है। अब दूसरे बच्ची पर भी योजना के तहत छह हजार रुपये दिए जाएंगे। जबकि पहले बच्चे पर पांच हजार रुपये दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि योजना का लाभ दिलाने के लिए आशा वर्कर और एएनएम के स्तर पर आईडी जनरेट कर दी गई है। इस योजना का हेल्पलाइन नंबर 104 है।

योजना का लाभ लेने के लिए शर्तें

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के जिला कार्यक्रम सहायक नियाज़ अहमद ने बताया की आवेदक महिला की पारिवारिक आय आठ लाख से कम होनी चाहिए। उसके पास ई-श्रम हो, दिव्यांगता कार्ड हो, आयुष्मान कार्ड हो, पात्र गृहस्थी का राशनकार्ड हो, एससीएसटी वर्ग की महिला इस योजना के तहत लाभ पा सकती है। इस योजना में पंजीकरण कराने पर आशा को प्रोत्साहन राशि के रूप में प्रति लाभार्थी 250 रुपये दिए जाएंगे।

Check Also

बाराबंकी : संदिग्ध परिस्थितियों में बालिका की मौत, कहीं हत्या तो नहीं

देवा थाना क्षेत्र के मोहल्ला कचेहरान में 12 वर्षीय बालिका का शव छत में लगे ...