Breaking News
Home / अपराध / नौहझील पुलिस ने पकड़ा किसान का हत्यारोपित, भेजा जेल

नौहझील पुलिस ने पकड़ा किसान का हत्यारोपित, भेजा जेल

मथुरा (हि.स.)। थाना नौहझील पुलिस द्वारा किसान प्रेमपाल उर्फ बबलू की हत्या में मुकदमा में वांछित को पुलिस टीम द्वारा मुखबिर की सूचना पर मुडलिया की ओर जाने वाले मार्ग पर टयूवेल से गिरफ्तार कर गुरुवार एसएसपी के समक्ष पेश किया गया, जहां से पुलिस ने अदालत में पेश किया।

पुलिस लाइन स्थित सभागार में एसएसपी शैलेश पांडे ने बताया कि गौरतलब हो कि मृतक के भाई विपिन कुमार पुत्र भगवान सहाय नि. बाघई कटैलिया थाना नौहझील मथुरा द्वारा अपने भाई मृतक प्रेमपाल उर्फ बबलू की हत्या ट्यूबैल पर सोते हुए मनोज उर्फ मन्नू पुत्र रामवीर उर्फ हाबूडा द्वारा ईंट पत्थर से चेहरा कुचलकर कर देने के सम्बन्ध में मुकदमा पंजीकृत कराया था।

घटित घटना सोमवार से लगभग तीन चार दिन पूर्व मृतक के टयूबैल से पानी की पाइप चोरी हो गयी थी। जिसका शक मृतक प्रेमपाल अभियुक्त मन्नू पर करता था। मृतक द्वारा इस सम्बन्ध में अभियुक्त से पूछताछ करने पर दोनों के बीच आपस में कहासुनी हो गयी थी। सोमवार की रात्रि में अभियुक्त मन्नू अपने गांव वापस लौट रहा था। मृतक प्रेमपाल अपने पुत्र अवनीश के साथ टयूबैल पर पड़ी चारपाई पर लेटा हुआ था। मृतक द्वारा अभियुक्त को चोरी की पाइप के सम्बन्ध में टोके जाने के कारण वह काफी नाराज हो गया तथा मृतक के साथ मारपीट व कहासुनी करने लगा जिस पर मृतक का पुत्र मौके से अपने घर मम्मी और बाबा को बुलाने चला गया। इसी दौरान अभियुक्त द्वारा मौके पर पड़े ईंट पत्थर व लकड़ी के डन्डे से प्रेम पाल के सिर पर ताबड़तोड़ वार कर हत्या कर दी।

हत्या के उपरान्त अभियुक्त ने मृतक के पजामा में रखे लगभग छह हजार रुपये व फोन निकालकर मौके से पार हो गया। जिसमें से अभियुक्त ने नौ सौ रुपये का एक कीपैड फोन खरीदा था। अभियुक्त से नया खरीदा हुआ मोबाइल फोन, 2980 रुपये, मृतक का फोन व हत्या के समय पहने हुए कपड़े, चप्पल व आलाकत्ल बरामद हुये हैं।

मन्नू पर दो मुकदमे नौहझील व छाता थाने में पंजीकृत हैं। गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम में इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह, उपनिरीक्षक विनोद कुमार, दिलीप कुमार, हैड कांस्टेबल चन्द्रदेव, बृजराज, बृजेश कुमार, कांस्टेबल ललित कुमार मौजूद रहे।

Check Also

कानपुर : फेरों से पहले दूल्हे के गहने लेकर दुल्हन हुई रफूचक्कर, जब बराती ने रास्ता रोका तो

 बराती ने रास्ता रोका तो भाइयों ने उठाकर पटका कानपुर। ग्यारह हसबैंडों का बैंड बजाने ...