Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / दिव्यांगजनों को नहीं लगाने होंगे चक्कर, शादी कार्ड दिखाते ही अनुदान देगी योगी सरकार

दिव्यांगजनों को नहीं लगाने होंगे चक्कर, शादी कार्ड दिखाते ही अनुदान देगी योगी सरकार

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर दिव्यांगों को सहूलियत देने के लिए शिथिल किए नियम

बरेली मंडल में दिव्यांगजनों की शादी अनुदान प्रोत्साहन राशि के लिए मांगे गए आवेदन

बरेली मंडल में इस साल 3.80 लाख रुपये, 16 दिव्यांगजनों को दी शादी अनुदान की प्रोत्साहन राशि

बरेली। दिव्यांगजनों को मिलने वाली शादी अनुदान प्रोत्साहन राशि के लिए अब उन्हें चक्कर नहीं लगाने होंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर शादी का पंजीकरण रजिस्ट्रार कार्यालय में कराने के बाद प्रमाण पत्र लेने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। शादी का कार्ड दिखाकर ही अनुदान प्रोत्साहन राशि मिल जाएगी। प्रदेश के दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग ने दिव्यांगजनों को सहूलियत देने के लिए नियमों को शिथिल किया है। योगी सरकार के आदेश पर अब दिव्यांगजनों को लाभ दिलाने के लिए डिप्टी डायरेक्टर दिव्यांगजन सशक्तिकरण ऋतुराज ने सभी जिलों के अधिकारियों को निर्देश जारी किए हैं। लक्ष्य के सापेक्ष दिव्यांग जोड़ों को शादी अनुदान से लाभान्वित करने के निर्देश दिए हैं। शादी अनुदान के लिए ऑनलाइन आवेदन की व्यवस्था है।

15 से 35 हजार तक मिलता है शादी अनुदान, बरेली मंडल में 3.80 लाख दिया अनुदान

उपनिदेशक दिव्यांगजन सशक्तिकरण ऋतुराज ने बताया कि 15 हजार से 35 हजार दिव्यांगजनों को शादी अनुदान के लिए धनराशि मिलती है। लड़का दिव्यांग है तो 25 हजार शादी करने पर मिलता है। लड़की सामान्य स्थिति की होनी चाहिए। लड़की दिव्यांग है और लड़का सामान्य है तो अनुदान की धनराशि 15000 दी जाती है। जबकि लड़का लड़की दोनों दिव्यांग है। जिस पर अनुदान प्रोत्साहन राशि 35 हजार की व्यवस्था की गई है। बरेली में आठ दिव्यांगों को दो लाख, बदायूं में दो दिव्यांग जोड़ों को 70 हजार, पीलीभीत में एक दिव्यांग को 15 हजार, शाहजहांपुर में पांच दिव्यांगों को 95 हजार प्रोत्साहन राशि दी गई है।

बरेली मंडल में 79334 दिव्यांगजन ले रहे पेंशन योजना का लाभ

बरेली मंडल में 79334 दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग में आवेदन के बाद पेंशन योजना का लाभ ले रहे हैं। सीएमओ से जारी दिव्यांग प्रमाण पत्र के बाद ही उनको पेंशन की सुविधा मुहैया कराई गई है। इसमें बरेली में 20476, बदायूं में 20373, पीलीभीत में 17452 और शाहजहांपुर में 19635 दिव्यांगों को पेंशन दी जा रही है। वर्तमान वित्तीय वर्ष में 2488 आवेदन प्राप्त हुए थे। इसमें 1447 पात्र पाए गए हैं। इनको पेंशन जारी कर दी गई है।

Check Also

आंखों में धुधला दिखाई दे तो तुरंत कराए जांच, इसे नजरअंदाज करने की ना करें भूल

नई दिल्ली (ईएमएस) । आंखों के एक्सपर्ट का कहना है कि अगर किसी को देखने ...