Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / गोरखपुर : 4490 बेटियों के हाथ पीले करा चुकी है योगी सरकार, पढ़े पूरी रिपोर्ट

गोरखपुर : 4490 बेटियों के हाथ पीले करा चुकी है योगी सरकार, पढ़े पूरी रिपोर्ट

 

– 22 जून को डेढ़ हजार जोड़ों का होगा सामूहिक विवाह

– आशीर्वाद देने के लिए खुद मौजूद रहेंगे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

गोरखपुर (हि.स.)। आर्थिक रूप से कमजोर व्यक्ति के लिए सबसे बड़ी चिंता बेटी के हाथ पीले करने की होती है। योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद बीते छह साल से उनकी यह चिंता दूर हो गई है। अकेले गोरखपुर में योगी सरकार मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत वर्ष 2017 से अब तक आर्थिक रूप से कमजोर परिवार की 04 हजार 490 बेटियों के हाथ पीले करा चुकी है। जिले में एक बार फिर एक ही साथ डेढ़ हजार जोड़े मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत बड़े धूमधाम से वैवाहिक बंधन में बंधने जा रहे हैं। खास बात यह कि इन जोड़ों को आशीर्वाद देने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद मौजूद रहेंगे।

जिला समाज कल्याण अधिकारी ने कहा

जिला समाज कल्याण अधिकारी वशिष्ठ नारायण सिंह कहते हैं, मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना सिर्फ औपचारिकता नहीं है बल्कि इसमें वैवाहिक जीवन में प्रवेश करने वाले जोड़ों को गृहस्थी के जरूरी सामान देने के साथ भविष्य की जरूरतों के लिए बिटिया के खाते में 35 हजार रुपये की धनराशि भी दी जाती है।

चम्पा देवी पार्क में होगा भव्य आयोजन

सामूहिक विवाह योजना के तहत वृहद व भव्य समारोह का आयोजन 22 जून को पूर्वाह्न 10 बजे से रामगढ़ताल क्षेत्र में स्थित चंपा देवी पार्क मैदान में होने जा रहा है। समाज कल्याण विभाग की तैयारी डेढ़ हजार से अधिक जोड़ों के सामूहिक विवाह कराने की है।

यह भी जानें

16 जून तक आवेदन स्वीकार किए जाएंगे। प्रति विवाह सरकार 51 हजार रुपये खर्च करती है। इसमें से 35 हजार रुपये विवाह बंधन में बंधने जा रही कन्या के बैंक खाते में अंतरित कर दिए जाते हैं। 10 हजार रुपये उपहार व शेष राशि अन्य खर्चों के मद में है। सामूहिक विवाह के इस समारोह में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ जिले के जनप्रतिनिधियों की मौजूदगी नवयुगलों के लिए आजीवन यादगार रहेगी।

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना की यह है उपलब्धि

2017-18 81

2018-19 236

2019-20 630

2020-21 622

2021-22 1416

2022-23 1505

यह दिए जाएंगे उपहार

वधू के लिए विवाह हेतु कढ़ाई की एक साड़ी, एक चुनरी, एक डेली यूज की साड़ी, वर हेतु कुर्ता पायजामा, पगड़ी तथा माला। मुस्लिम विवाह के लिए वधू को कढ़ाई वाला सूट, चुनरी, सूट का कपड़ा, वर हेतु कुर्ता पायजामा आदि। आभूषण में 25 ग्राम की चांदी की पायल, छह ग्राम का बिछुआ। गृहस्थी के समान में एक कुकर, एक जग या लोटा, दो थाली, दो गिलास, दो कटोरा व चम्मच, एक बक्सा तथा एक श्रृंगारदानी प्रसाधन सामग्री से भरी हुई।

मुख्यमंत्री निभाते हैं पिता का दायित्व

हेरिटेज फाउंडेशन गोरखपुर की संरक्षिका डॉ अनिता अग्रवाल कहती हैं कि यकीनन यह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक हृदयवान पिता की तरह इस समारोह को सम्पन्न कराते हैं। दूसरे राज्यों की सरकारों के लिए भी यह अनुकरणीय है। इससे दान दहेज की प्रथा को बल नहीं मिलता है बल्कि आर्थिक रूप से कमजोर परिवार बेटिया बोझ नहीं बनती है। उल्लास के साथ राज्य के मुख्यमंत्री समेत अन्य जनप्रतिनिधियों के आशीर्वाद के साथ आर्थिक रूप से कमजोर घरों की बेटियां भी समय अपने घरों को विदा हो जाती हैं।

Check Also

कानपुर : फेरों से पहले दूल्हे के गहने लेकर दुल्हन हुई रफूचक्कर, जब बराती ने रास्ता रोका तो

 बराती ने रास्ता रोका तो भाइयों ने उठाकर पटका कानपुर। ग्यारह हसबैंडों का बैंड बजाने ...