Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / कुतुबखाना पुल : दुकानों के छज्जों पर चला बुलडोजर, टीम से नोकझोंक, अतिक्रमण हटाने को दो दिन का अल्टीमेटम

कुतुबखाना पुल : दुकानों के छज्जों पर चला बुलडोजर, टीम से नोकझोंक, अतिक्रमण हटाने को दो दिन का अल्टीमेटम

बरेली। कुतुबखाना फ्लाईओवर निर्माण को लेकर चिन्हित पुरानी बिल्डिंग और अतिक्रमण पर जब बुलडोजर चला तो दुकानदारों की टीम से नोकझोंक हो गई। तय हुआ कि दुकानदार और भवन स्वामी खुद ही पक्के-कच्चे अतिक्रमण दो दिन में हटा लें।

इस बार बुलडोजर चलेगा किसी की सुनी नहीं जाएगी

मंगलवार दोपहर चौकी से दस कदम की दूरी पर न्यू अरोड़ा क्लाथ हाउस, भसीन स्टूडियो वाली बिल्डिंग पर टीम पहुंची। यहां अतिक्रमण को कर्मचारी ने हथौड़े से तोड़ना शुरू किया। थोड़ी ही देर में बुलडोजर आ गया, फिर न्यू अरोड़ा क्लाथ हाउस, भसीन स्टूडियो वाली बिल्डिंग के पक्के छज्जों को बुलडोजर से तोड़ना शुरू किया। बुलडोजर चलता देख दुकानदार भड़क गए। उन्होंने अधिकारियों से गुहार लगाई कि बिल्डिंग पुरानी है बुलडोजर चला तो पूरी बिल्डिंग गिर जाएगी। इस बीच दुकानदार और अधिकारियों के बीच काफी कहासुनी तक हुई। इसके बाद तय हुआ कि दुकानदार और भवन स्वामी खुद ही पक्के-कच्चे अतिक्रमण दो दिन में हटा ले। टीम फिर आएगी और इस बार बुलडोजर चलेगा किसी की सुनी नहीं जाएगी।

पुलिस, पीएसी मोर्चा संभालती रही, प्रवर्तन दल भीड़ को हटाते रहे

कोहाड़ापीर चौकी से कुतुबखाना चौक की ओर जाने वाले रास्ते में फ्लाईओवर का निर्माण चल रहा है। इस निर्माण के बीच में पक्के-टीनशेड वाले निर्माण आ रहे हैं। जिसकी वजह से फ्लाईओवर का काम रूका हुआ है। मंगलवार को जब पूरा अमला कोहाड़ापीर रोड पर पहुंचा तो दुकानदारों में हड़कंप मच गया। किसी अनहोनी से निपटने को पीएसी पुलिस बल मोर्चा संभाले रहा वहीं प्रवर्तन दल ने भीड़ से खदेड़ना शुरू कर दिया।

टीम में ये रहे मौजूद

अपर नगर मजिस्ट्रेट नहने राम की अगुवाई में अपर नगरायुक्त सुनील कुमार यादव, अजीत कुमार सिंह, अतिक्रमण प्रभारी ललतेश कुमार सक्सेना, बरेली स्मार्ट सिटी कंपनी के सहायक अभियंता सुशील कुमार सक्सेना और सेतु निगम, कार्यदायी कंपनी के तकनीकी स्टाफ, नगर निगम का अतिक्रमण दस्ता, पुलिस, पीएसी मौजूद रही।

Check Also

कानपुर : फेरों से पहले दूल्हे के गहने लेकर दुल्हन हुई रफूचक्कर, जब बराती ने रास्ता रोका तो

 बराती ने रास्ता रोका तो भाइयों ने उठाकर पटका कानपुर। ग्यारह हसबैंडों का बैंड बजाने ...