Breaking News
Home / उत्तर प्रदेश / आईआईटी कानपुर की उपलब्धि, क्लाउड सीडिंग की परीक्षण उड़ान सफल

आईआईटी कानपुर की उपलब्धि, क्लाउड सीडिंग की परीक्षण उड़ान सफल

कानपुर  (हि.स.)। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर (आईआईटी) ने 21 जून 2023 को क्लाउड सीडिंग के लिए एक परीक्षण उड़ान सफलतापूर्वक आयोजित की। यह परियोजना कुछ साल पहले आईआईटी कानपुर में शुरू की गई थी और इसका नेतृत्व कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिंग विभाग के प्रोफेसर मनिन्द्र अग्रवाल कर रहे हैं। यह प्रयोग डीजीसीए (नागरिक उड्डयन महानिदेशालय) से उचित अनुमोदन के साथ आयोजित किया गया था।

क्लाउड सीडिंग में वर्षा की संभावना को बढ़ाने के उद्देश्य से विभिन्न रासायनिक एजेंटों जैसे सिल्वर आयोडाइड, सूखी बर्फ, नमक और अन्य तत्वों का उपयोग शामिल है। आईआईटी द्वारा किए गए प्रयोग में, क्लाउड सीडिंग अटैचमेंट के साथ आईआईटी कानपुर की उड़ान प्रयोगशाला से एक सेसना विमान उड़ाया गया था। ये अटैचमेंट अमेरिका के एक निर्माता से खरीदे गए थे और विमान में संशोधनों को सेसना और डीजीसीए के निर्माताओं दोनों द्वारा अनुमोदित किया गया था। परीक्षण उड़ान ने मानक अभ्यास के अनुसार फ्लेयर का उपयोग करके एजेंटों को फैलाया।

इस सफल परीक्षण के संबंध में प्रोफेसर मनिन्द्र अग्रवाल ने गुरुवार को कहा ‘हमें खुशी है कि क्लाउड सीडिंग के लिए हमारा परीक्षण सफल रहा। हमने फ्लेयर्स को बादलों में नहीं दागा, यह केवल उपकरण के लिए एक परीक्षण था। सफल परीक्षण उड़ान का अर्थ है कि अब हम बाद के चरणों में क्लाउड सीडिंग करने और इसे सफल बनाने के लिए तैयार हैं।’

उन्होंने आगे कहा ‘हम पिछले कुछ वर्षों से इस परियोजना पर काम कर रहे हैं। कोविड के कारण खरीद प्रक्रियाओं में देरी हुई। लेकिन अब, डीजीसीए से मंजूरी और पहले परीक्षण के सफल समापन के बाद, हम सेटअप पूरा करने के करीब हैं।

पांच हजार फीट ऊंचाई पर किया गया परीक्षण

प्रोफेसर मनिन्द्र अग्रवाल ने बताया कि यह परीक्षण उड़ान लगभग 5000 फीट की ऊंचाई तक गई और सफलतापूर्वक परीक्षण पूरा करने के बाद आईआईटी कानपुर फ्लाइट लैब हवाई पट्टी पर वापस आ गई।

Check Also

इस चुनाव में भी बसपा नहीं जीत सकी उत्तर प्रदेश में एक भी सीट, जानें- कैसे बिगाड़ा खेल?

लखनऊ (हि.स.)। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव की तरह इस चुनाव में भी बसपा उत्तर ...